दुनिया का सबसे बड़ा कार्गो जेट पहुंचेगा भारत

नई दिल्ली : दुनिया की सबसे बड़ी कार्गो प्लेन एंटोनोव एन-225 मिरिया अपनी पहली कमर्शियर फ्लाइट के लिए कीव से रवाना हो गई है। इसका निर्माण यूक्रेन में किया गया है। अगले रविवार को यह फ्लाइट ऑस्ट्रेलिया के पर्थ में लैंड करेगा। इस फ्लाइट के साथ 117 टन वजनी इलेक्ट्रिक जेनेरेटर भी है, जिसे ऑस्ट्रेलिया के एक माइनिंग कंपनी को डिलीवर करना है।

इस सफर के बीच में यह प्लेन हैदराबाद में भी रुकेगा। इसका वजन 600 टन है, जिसमें 6 इंजन लगाए गए है। एक बार में यह 640 टन सामान ले जाने में समर्थ है। यह दुनिया का अकेला ऐसा प्लेन है, जिसका विंग एरिया बोइंग 747 प्लेन के विंग एरिया से दोगुना है।

यह कार्गो जेट दो एयरक्राफ्ट या फिर 10 ब्रिटिश टैंक लेकर उड़ सकता है। बिना किसी वजन के और बिना रिफ्यूलिंग के यह फ्लाइट 18 घंटे तक उड़ सकता है। कीव से पर्थ तक के रास्ते में यह फ्लाइट तुर्कमेनिस्तान, भारत और मलेशिया में रुक कर फ्यूल भरेगा।

80 के दशक में डिजाइन किए गए इस कार्गो का लंबे समय तक सोवियत आर्मी ने भी इस्तेमाल किया था। नासा ने इसका इस्तेमाल स्पेसशिप ले जाने के लिए किया था। कार्गो जेट यूक्रेन से चेक रिपब्लिक पहुंचेगा औऱ वहां से इलेक्ट्रिक जेनेरेटर लोड किया जाएगा। जेनेरेटर को अनलोड करने में 10 घंटे का समय लग सकता है। रविवार को पर्थ एयरपोर्ट पर इसे देखने 50,000 लोग आ सकते है।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -