रविवार की जगह अब 'जुमे' को बंद हो रहे स्कूल, हैरान कर देगा 'कारण'

रविवार की जगह अब 'जुमे' को बंद हो रहे स्कूल, हैरान कर देगा 'कारण'
Share:

रांची: झारखंड के जामताड़ा जिले के कुछ सरकारी स्कूलों में रविवार की जगह अब शुक्रवार की अवकाश घोषित किए जाने की जानकारी सामने आई है। दावा किया गया है कि स्कूल के नोटिस बोर्ड पर बाकयदा शुक्रवार को जुमे का दिन बताते हुए इस दिन अवकाश घोषित किया गया है। वहीं, राज्य के शिक्षा विभाग की तरफ से बताया गया है कि, ये उर्दू स्कूल हैं, इसलिए शिक्षकों की सुविधा को देख कर ये फैसला लिया गया है।

 

दैनिक जागरण के संवाददाता कौशल सिंह द्वारा दी गई इस मामले की ग्राउंड रिपोर्ट के अनुसार, शुक्रवार का अवकाश उन स्कूलों में रखा गया है, जहाँ मुस्लिम छात्रों की तादाद 70 फीसद से अधिक है। दावे के अनुसार, शासनसे उन स्कूलों को शुक्रवार को बंद रखने के आदेश नहीं हैं, मगर प्रबंधन कमिटी के दबाव में वहाँ शुक्रवार को अवकाश होना एक स्थाई चलन बन चुका है। वहीं, झारखंड के पूर्व CM और भाजपा के वरिष्ठ नेता बाबूलाल मरांडी ने इस व्यवस्था पर सवाल खड़े किए हैं। उन्होंने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट करते हुए लिखा है कि, 'पहले गढ़वा में हाथ जोड़ कर प्रार्थना की पद्धति को रोकने की खबर। अब जामताड़ा ज़िले में रविवार के बदले जबरन शुक्रवार को स्कूल बंद कराने के साथ ही सामान्य विद्यालयों पर खुद से उर्दू विद्यालय का बोर्ड लिखवा देना। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन जी, आप झारखंड को किस ओर ले जा रहे हैं?'

 

उधर, जिले के शिक्षा विभाग का दावा किया है कि, कुल 1084 स्कूलों में से केवल 15 उर्दू स्कूलों में शुक्रवार का अवकाश दिया जा रही है। मगर, जागरण की रिपोर्ट की मानें तो, शुक्रवार को बंद होने वाले स्कूलों की तादाद 100 से भी ज्यादा बताई गई है। इन स्कूलों के मुस्लिम बहुल क्षेत्रों में होने के दावे के साथ आस-पास के लोगों द्वारा स्कूल प्रबंधन पर भी दबाव डालने का दावा किया गया है। रिपोर्ट के अनुसार,  अनधिकृत रूप से कई स्कूलों के बोर्ड के आगे लोगों ने बिना इजाजत के ‘उर्दू’ शब्द जोड़ दिया गया है।

रिपोर्ट के अनुसार, बिराजपुर उत्क्रमित माध्यमिक विद्यालय के सचिव दीप नारायण मंडल का कहना है कि, 'करीब 8 महीने पहले स्थानीय ग्रामीणों ने शुक्रवार के अवकाश के लिए हंगामा किया था। तब हमने विभाग के बड़े अधिकारियों को पत्र लिखते हुए इसकी जानकारी दी थी, मगर कोई कार्रवाई नहीं हुई। अब गाँव वालों के दबाव में शुक्रवार को अवकाश दिया जा रहा है।' 

वहीं नावाडीह पंचायत मुखिया के शौहर सज्जाद अंसारी का कहना है कि, शुक्रवार को छुट्टी की व्यवस्था क्षेत्र में काफी लम्बे अरसे से चलती आ रही है। उधर, जागरण की रिपोर्ट के अनुसार, जामताड़ा के जिला शिक्षा पदाधिकारी अभय शंकर ने कहा है कि, 'किसी स्कूल के शुक्रवार को बंद होने की जानकारी उन्हें नहीं है। यदि कहीं ऐसा हो रहा होगा तो उसे रोकते हुए आरोपित के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।'

माँ काली विवाद को लेकर दिल्ली में सड़कों पर उतरे हिन्दू, गूंजे 'भारत माता की जय' के नारे

चित्रकूट हादसा: CM योगी ने मृतकों और घायलों के लिए किया मुआवजे का ऐलान, 5 की हुई थी मौत

मर्डर केस में बरी हुआ भाजपा नेता, तो जेल से 70 Km तक निकला विजय जुलूस, केस दर्ज

 

 

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -