पॉप म्युजिक सुनने के आरोप में जिहादियों ने नाबालिग का सिर कलम किया

Feb 20 2016 03:36 PM
पॉप म्युजिक सुनने के आरोप में जिहादियों ने नाबालिग का सिर कलम किया

मोसुल : खूंखार आतंकी संगठन आईएसआईएस ने एक 15 साल के युवक का सिर इसलिए कलम कर दिया क्योंकि वो पॉप म्युजिक सुन रहा था। मेल ऑनलाइन की रिपोर्ट के मुताबिक आईएस अधिकृत इराकी शहर मोसुल में आतंकियों ने 15 साल के अयहाम हुुसैन को एक पोर्टेबल म्युजिक प्लेयर से संगीत सुनते हुए पकड़ लिया था, इसके बाद कट्टरपंथियों ने उसे इस्लामी कंगारु कोर्ट में ले गया।

जहां उसे सार्वजनिक रुप से मौत की सजा देने का फैसला सुनाया गया। एक मीडिया सेंटर के प्रवक्ता एआरएजे ने बताया कि एयहाम को उशके पिता के ही ग्रॉसरी स्टोर में जिहादियों ने पॉप म्युजिक सुनते हुए पकड़ लिया। मंगलवार को उसके शव को उसके परिजनों को सौंप दिया गया।

कहा जा रहा है कि यह पहली ऐसी हत्या है, जो संगीत सुनने की वजह से दी गई हो। इसके बाद से स्थानीय लोगों में काफी नाराजगी फैल गई। बताया जा रहा है कि शरिया कोर्ट की तरफ से कोई भी औपचारिक फैसला नहीं है, जो पश्चिमी संगीत सुनने पर प्रतिबंध लगाता हो।

आईएस ने इराक और सीरिया की सीमाओं में अपनी रूढ़िवादी न्याय व्यवस्था थोप रखी है। जिसमें ईशनिंदा और समलैंगिक होने के कथित अपराधों के लिए कैदियों की हत्या कर दी जाती है। दो साल पहले एक बयान में आतंकी संगठन ने कारों, पार्टी, दुकानों और सार्वजनिक स्थानों पर संगीत और गाने सुनने पर भी प्रतिबंध लगाया था।