Gold ETF में इंस्वेस्टर्स के बढ़ सकते है रुझान, इस साल किया जा सकता है बड़ा निवेश

Gold ETF में इंस्वेस्टर्स के बढ़ सकते है रुझान, इस साल किया जा सकता है बड़ा निवेश

इस साल पहली छमाही (जनवरी-जून, 2020) के दौरान गोल्ड एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (Gold ETF) में 3,500 करोड़ रुपये से अधिक का निवेश किया है. एसोसिएशन ऑफ म्यूचुअल फंड्स इंडिया (AMFI) ने अपने अधुनातन आंकड़ों में यह जानकारी दी है. एसोसिएशन के अनुसार बीते साल समान अवधि में निवेशकों ने Gold ETF से 160 करोड़ रुपये की निकासी कर ली थी. बीते साल अगस्त से ही Gold ETF में इन्वेस्टर्स का प्रवृत्ति बढ़ी जा रही है. तब से अब तक इन्वेस्टर्स इसमें 3,723 करोड़ रुपये का इन्वेस्ट कर चुके हैं. 

EMPHY के अनुसार इस साल पहली छमाही में निवेशकों ने Gold ETF में शुद्ध रूप से 3,530 करोड़ रुपये लगाए. इनमें सबसे अधिक 1,483 करोड़ रुपये का निवेश इस साल फरवरी और 815 करोड़ रुपये का निवेश मई में किया गया. निवेशकों ने Gold ETF में अप्रैल में 731 करोड़ रुपये, जून में 494 करोड़ रुपये और जनवरी में 202 करोड़ रुपये का निवेश किया.

हालांकि फरवरी में बड़े निवेश के बाद मार्च में निवेशकों ने प्रॉफिट बुकिंग की और 195 करोड़ रुपये निकाले गए. कुल मिलाकर छमाही के 5 महीनों में निवेशकों ने Gold ETF को सुरक्षित इन्वेस्ट का ठिकाना बनाया. इस बढ़े इन्वेस्ट के चलते ही इस साल जून के अंत में गोल्ड फंड्स का असेट अंडर मैनेजमेंट (AUM) बढ़कर 10,857 करोड़ रुपये हो गया है. बीते साल जून के अंत में यह सिर्फ 4,930 करोड़ रुपये पर था. इन्वेस्ट के इस इंस्ट्रूमेंट में बढ़ती रुचि के बारे में मॉर्निंगस्टार इन्वेस्टमेंट एडवाइजर इंडिया के सीनियर रिसर्च एनालिस्ट (मैनेजर रिसर्च) हिमांशु श्रीवास्तव का कहना था कि कोरोना के मामले जैसे-जैसे बढ़ते गए, शेयर बाजारों में अस्थिरता बढ़ती गई. ऐसे में निवेशक अपने निवेश का सुरक्षित ठिकाना तलाशने लगे और उन्होंने Gold ETF में पूंजी निवेश बढ़ाया.

देश की 6 बड़ी कंपनियों की दौलत में हुआ 1 लाख करोड़ का इजाफा, यहाँ देखें सूची

इतिहास में पहली बार 81 रुपए के पार पहुंचा डीज़ल, 14 दिनों से पेट्रोल के भाव स्थिर

जीडीपी के आंकड़ों ने किया निराश, भारी गिरावट के नजर आ रहे आसार