भारतीय नौसेना करेगी मालदीव की निगरानी

माले: भारत के पुराने मित्र मालदीव से भारत के संबंध चीन के हस्तक्षेप के बाद कुछ हद तक बिखर गए थे, लेकिन इन दूरियों के बाद, भारत और मालदीव वापिस अपने संबंधो को मजबूत करने के प्रयास कर रहे हैं. हाल ही में भरत ने मालदीव के विशिष्ट आर्थिक क्षेत्र (EEZ) की संयुक्त निगरानी के लिए होनी नौसेना का एक पोत तैनात किया है. भारतीय नौसेना ने कहा कि उसके पोत सुमेधा को 9 से 17 मई तक के लिए मालदीव के EEZ की संयुक्त निगरानी के लिए तैनात किया गया है.

गौरतलब है कि दुनियावी नक़्शे पर छोटा सा दिखने वाला द्वीप देश मालदीव, भारत के लिए बहुत महत्त्व रखता है. मालदीव एक ऐसे महत्वपूर्ण जहाज मार्ग से सटा हुआ है जिससे होकर चीन, जापान और भारत जैसे कई देशों को ऊर्जा की आपूर्ति होती है. भारत का भी 97 % व्यापर इसी मार्ग से होता है, इसलिए यह समझा जा सकता है कि इसके मार्गों को सुरक्ष‍ित करना भारत के लिए कितना महत्वपूर्ण है

आपको बता दें कि मालदीव एक सुन्नी मुसलमान बहुल देश है. मौजूदा राष्ट्रपति यामीन ने देश में धार्मिक कट्टरता को बढ़ावा दिया है. ऐसा माना जाता है कि मालदीव से बड़ी संख्या में नौजवान सीरिया जाकर आइएसआइएस में भर्ती हुए हैं. कमजोर मालदीव धार्मिक अतिवादियों और कट्टरपंथियों की पनाहगाह बन सकता है. भारत के पड़ोस में एक आतंकी देश पाकिस्तान पहले से ही है, ऐसे में भारत अपने पड़ोस में एक और आतंकी देश का भार वहां नहीं कर सकता. इसलिए भारत और मालदीव के बीच संबंध कई मायनों में महत्वपूर्ण हैं.

.पेशावर होटल बम ब्लास्ट में एक परिवार के पांच लोग मारे गए

यह है दुनिया का सबसे बड़ा और दुर्लभ फूल

दुनिया में सबसे ज्यादा आम का उत्पादक देश है भारत

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -