विदेश में फंसे भारतीयों को लाने की प्रक्रिया तेज़, मालदीव और दुबई रवाना हुए नेवी के जहाज

नई दिल्ली: कोरोना वायरस महामारी के कारण विदेश में फंसे हुए भारतीयों को लाने के लिए भारत सरकार ने  फैसला ले लिया है. इसी फैसले के तहत सोमवार को इंडियन नेवी के युद्ध पोत INS जलाश्व, INS मगर और INS शार्दुल मालदीव और संयुक्त राष्ट्र अमीरात (UAE) के लिए निकल गए हैं. 

INS जलाश्व ने बीते दिनों ही ईस्ट कोस्ट से वेस्ट कोस्ट की तरफ चढ़ाई की थी. खाड़ी देशों में फंसे हुए भारतीयों को वापस स्वदेश लाने के लिए कुल 14 युद्धपोतों की तैनाती की गई है. इनमें INS जलाश्व, INS मगर को मालदीव भेजा गया है. वहीं, INS शार्दुल को दुबई पहुँचाया गया है, जहां से लोगों को वापस भारत लाया जाना है. INS शार्दुल अपनी यात्रा पूरी कर भारतीयों को कोच्चि लाएगा. आपको बता दें कि INS मगर, INS शार्दुल नेवी के साउथ कमांड के हिस्सा हैं, जबकि INS जलाश्व ईस्ट कमांड का हिस्सा है. 

बता दें कि सरकार का कहना है कि मालदीव में लगभग 2500 से ज्यादा भारतीय मजदूर फंसे हुए हैं, जिन्हें वापस लाना है. अब इन्हें समुद्री रास्ते ही वापस लाया जाएगा. गौरतलब है कि सोमवार को ही भारत सरकार ने फैसला लिया था कि विदेश में फंसे हुए भारतीयों की घर वापसी की प्रक्रिया 7 मई से शुरू होगी. इसके लिए हवाई मार्ग का भी इस्तेमाल लिया जाएगा, दुबई और अबू धाबी से 7 मई को स्पेशल विमान भारत पहुंचेंगे, जिनमें भारतीयों को वापस लाया जाएगा.

कोरोना : विदेश से भारतीयों को वापस लाने के लिए इन विमानों ने भरी उड़ान

कोरोना : इस सीएम को मिली लॉकडाउन में छूट न देने की सलाह

इस राज्य के मुख्यमंत्री राहत कोष में छोटे बच्चों ने किया दान

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -