OMG! अब रोबोट भी पैदा कर सकेंगे बच्चे

विश्व के प्रथम 'जीवित रोबोट' बनाने वाले अमेरिकी एक्सपर्ट का कहना है कि रोबोट अब प्रजनन भी कर सकते हैं। 'जीवित रोबोट' को ज़ेनोबोट्स के नाम से जाना जाता है। एक्सपर्ट्स ने अफ्रीकी मेंढकों के स्टेम कोशिकाओं का इस्तेमाल करके विश्व का पहला 'जीवित, स्व-उपचार' रोबोट बनाया है। ज़ेनोबोट्स को पहली बार 2020 में सामने लाया गया था। इनका साइज बहुत सूक्ष्म है। तब प्रयोगों से पता चला था कि वे ('जीवित रोबोट') चल सकते हैं, समूहों में एक साथ काम कर सकते हैं, खुद को ठीक (स्व-उपचार) भी कर सकते हैं तथा भोजन के बगैर सप्ताहों तक जिन्दा रह सकते हैं। 

एक्सपर्ट ने क्या दावा किया? 
अब जिन वैज्ञानिकों ने Xenobots को वर्मोंट विश्वविद्यालय, टफ्ट्स विश्वविद्यालय तथा हार्वर्ड विश्वविद्यालय के वायस इंस्टीट्यूट फॉर बायोलॉजिकल इंस्पायर्ड इंजीनियरिंग में निर्माण किया है, उन्होंने कहा है कि उन्होंने जानवर या वृक्ष से अलग जैविक प्रजनन का एक बिल्कुल नया रूप तलाशा है। ये रूप विज्ञान के लिए ज्ञात किसी भी तौर पर बिल्कुल अलग है। 

क्या है 'जीवित रोबोट'? 
दरअसल, यह रोबोट Xenobots बॉयोलॉजिकल रोबोट का अपडेटेड वर्जन है, जिसका बीते वर्ष अनावरण किया गया था। इस जीवित रोबोट को वैज्ञानिकों ने मेढ़क की कोशिकाओं से तैयार किया है। यह बहुत छोटा रोबोट कई काम एक साथ कर सकता है। कहा जा रहा कि यह रोबोट कई सिंगल कोशिकाओं को जोड़कर अपना 'शरीर' बना सकता है। वैज्ञानिकों के अनुसार, मनुष्य की भांति मेढ़क की कोशिकाएं एक शरीर का निर्माण करती हैं। ये एक सिस्‍टम के तौर पर काम करती हैं। Xenobots बनाने के लिए, एक्सपर्ट्स ने मेंढक के भ्रूण से जीवित स्टेम कोशिकाओं को स्क्रैप किया तथा उन्हें इनक्यूबेट करने के लिए छोड़ दिया। कंप्यूटर साइंस के प्रोफेसर तथा रोबोटिक्स जोश बोंगार्ड ने बोला, "अधिकांश लोग रोबोट को धातु एवं सिरेमिक से बना मानते हैं, मगर यह सिर्फ इतना नहीं है। ये रोबोट आनुवंशिक तौर पर अपरिवर्तित मेंढक कोशिका से बना जीव है।"

मन्त्रों का जाप कर बच्चो को पढ़ा रहा था टीचर, वायरल हो गया वीडियो , यूजर्स बोले- अरे मास्टर साहब...!

VIDEO: JCB में दूल्हा-दुल्हन को बैठाकर भूल गया ड्राइवर कि वो शादी में आया है

लड़के को लगी मोबाइल की ऐसी लत की भूल बैठा अपना सबकुछ

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -