तीन तलाक़ देकर गैर-मर्द से 'हलाला' का दबाव बना रहा था शौहर, नसीमा ने इस्लाम त्यागकर अपनाया सनातन, दोस्त से कर ली शादी
तीन तलाक़ देकर गैर-मर्द से 'हलाला' का दबाव बना रहा था शौहर, नसीमा ने इस्लाम त्यागकर अपनाया सनातन, दोस्त से कर ली शादी
Share:

पटना: बिहार के पूर्णिया की रहने वाली नसीमा खातून ने इस्लाम त्यागकर हिंदू धर्म अपना लिया है और 16 फरवरी को बरेली के अगस्त्य मुनि आश्रम में हिंदू रीति-रिवाजों के अनुसार अपने दोस्त महेश शर्मा से शादी कर ली। महेश से शादी के बाद नसीमा खातून अब मीनाक्षी शर्मा बन गई हैं। नसीमा ने बताया कि उसके पहले पति ने छह महीने पहले उसे तीन तलाक दे दिया था। तलाक के बाद, उसे हलाला (गैर मर्द के साथ हमबिस्तरी करने) के लिए मजबूर किया जा रहा था। उनकी पिछली शादी से उनकी डेढ़ साल की बेटी है।

नसीमा खातून और महेश शर्मा सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म इंस्टाग्राम के जरिए मिले थे। महेश उत्तर प्रदेश के बरेली इलाके में रहते हैं। उनके शुरुआती संपर्क से धीरे-धीरे बातचीत शुरू हुई, जो दोस्ती में बदल गई और अंततः प्यार में बदल गई। इसके बाद, उन्होंने शादी करने का फैसला किया। नसीमा खातून शादी के लिए पूर्णिया से बरेली तक गईं। 10 जनवरी 2024 को बरेली में उसने जिलाधिकारी को प्रार्थना पत्र देकर धर्म परिवर्तन की इच्छा जताई। 20 वर्षीय तलाकशुदा वयस्क नसीमा ने कहा कि वह यह समझने में पूरी तरह सक्षम है कि उसके लिए क्या फायदेमंद या हानिकारक है। इसलिए, उन्होंने अपने आवेदन पर शीघ्र कार्रवाई करने का अनुरोध किया।

नसीमा ने अपनी अर्जी में लिखा कि, ''मुगल आक्रमणकारियों के आतंक के कारण मेरे पूर्वजों ने इस्लाम धर्म अपना लिया था। लेकिन मेरी आस्था हिंदू सनातन धर्म में है। मैं हिंदू देवी-देवताओं की पूजा करती हूं। इस्लाम में महिलाओं का कोई सम्मान नहीं है। तीन तलाक और हलाला जैसी कुप्रथाएं प्रचलित हैं। मैं स्वेच्छा से घर लौटना चाहती हूं और हिंदू वैदिक सनातन धर्म अपनाना चाहता हूं। नसीमा खातून ने कानूनी तौर पर हिंदू धर्म अपना लिया। फिर वह बरेली स्थित अगस्त्य मुनि आश्रम पहुंचीं। वहां नसीमा खातून की मुलाकात पंडित केके शंखधर से हुई। उन्होंने आवश्यक दस्तावेजों की जांच की और वैदिक रीति-रिवाज से नसीमा खातून की सनातन धर्म में घर वापसी कराई। नसीमा को नया नाम मीनाक्षी मिला। फिर उन्होंने अपने दोस्त महेश शर्मा से शादी कर ली। 

शादी के बाद अब नसीमा को अपने परिवार से धमकियां मिल रहीं हैं। उन्होंने बरेली के SSP को पत्र लिखकर सुरक्षा की मांग की है। उस पत्र में नसीमा (अब मिनाक्षी) ने लिखा है कि उसका परिवार उसके सनातन में लौटने और अपने प्रेमी से शादी करने से खुश नहीं है। उन्होंने लिखा कि, 'वे मेरे और मेरे पति और ससुराल वालों के पीछे पड़े हैं। वे हमें मारना चाहते हैं। वे हमें जान से मारने की धमकी दे रहे हैं।' मिनाक्षी ने बताया कि उनकी शादी आगरा में हुई थी और उनकी पहली शादी से एक बेटी है। उसके पति ने छह महीने पहले किसी मामूली घरेलू मुद्दे पर उसे तीन तलाक दे दिया था।

तीन तलाक के बाद उसे हलाला प्रथा से गुजरने के लिए मजबूर किया जा रहा था। जब उसने हलाला प्रथा का विरोध किया, तो उसके ससुराल वालों और पति ने उसे घर से निकाल दिया। इसके बाद वह अपने माता-पिता के साथ रह रही थी। इसी दौरान वह इंस्टाग्राम पर महेश शर्मा के संपर्क में आईं। 

बता दें कि नसीमा खातून की घर वापसी से दो दिन पहले 14 फरवरी को उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में शाहिदा नाम की एक मुस्लिम महिला ने घर वापसी की और अपने प्रेमी ओम प्रकाश से शादी कर ली। अब वह शारदा के नाम से जानी जाती हैं। शाहिदा पहले ही अपने शराबी पति को तलाक दे चुकी थी। शाहिदा के दोनों नाबालिग बेटे भी अब हिंदू धर्म के अनुसार जीवन-यापन करेंगे। इस घर वापसी में हिंदू संगठनों ने शाहिदा की मदद की है।

वीडी शर्मा ने किया कमलनाथ का BJP में स्वागत, बोले- 'अगर उनके दिल में ऐसी पीड़ा है तो...'

'13 वर्षीय लड़की का अपहरण कर आंखें फोड़ीं, स्तन काटे और...', अब कब्र से शव निकालकर होगी जाँच

क्या है AP फाइबरनेट घोटाला ? जिसमे पूर्व सीएम चंद्रबाबू नायडू को CID ने बनाया मुख्य आरोपी, चार्जशीट दाखिल

रिलेटेड टॉपिक्स
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -