जसप्रीत बुमराह ने कैसे सीखी इंच-परफेक्ट यॉर्कर डालना ?

अपनी धारदार गेंदबाजी के दम पर पहचान बनाने वाले टीम इंडिया के तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह आज अपना 28वां जन्मदिन सेलिब्रेट कर रहे है। उनक जन्म आज ही के दिन 6 दिसंबर 1993 को गुजरात के अहमदाबाद में हुआ था। बता दें कि बुमराह लगातार 140-145 किलोमीटर प्रति घंटे की स्पीड से गेंदबाजी करते हैं। उन्हें इन-स्विंगिंग यॉर्कर डिलीवरी में भी महरात हासिल है। जिनकी गेंदबाजी से बड़े बड़े दिग्गज बल्लेबाज़ भी डरते है।

बता दें कि जसप्रीत बुमराह, डेथ ओवरों के गेंदबाज की तलाश में टीम इंडिया में के लिए वरदान के रूप में इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) के जरिए सामने आए। गुजरात के तेज गेंदबाज ने मुंबई इंडियंस (MI) के एक हिस्से के रूप में इंच-परफेक्ट यॉर्कर गेंदबाजी करने की कला में महारत हासिल की और सीमित ओवरों के प्रारूप में टीम इंडिया के लिए एक नायाब हिरे की तौर पर विकसित हुए हैं। बुमराह का बचपन से ही क्रिकेट के प्रति रुझान थे। उन्होंने इसकी शुरुआत अपने घर से ही की। वह पूरे दिन दीवार पर गेंदबाजी करते रहते थे । एक दिन मां ने तंग आकर कहा कि यदि खेलना है तो ऐसे बॉल फेंकों, जिससे अधिक शोर ना हो। इसके बाद जसप्रीत ने नायाब तरीका निकाला और वह दीवार की जगह फ्लोर स्कर्टिंग (फ्लोर को जोड़ने वाले निचले छोर) पर गेंद फेंकने लगे। यहीं से जसप्रीत ने यॉर्कर डालना करना सीखा।

जसप्रीत ने अपना डेब्यू ODI मुकाबला जनवरी 2016 में ऑस्ट्रलिया के खिलाफ खेला था। उन्होंने अब तक भारत के तरफ खेलते हुए 67 वनडे मुकाबलों में 4.49 की इकॉनमी के साथ 108 विकेट ले चुके हैं। इस दौरान उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 27/5 रहा। वहीं बात यदि टी20 की करें, तो जसप्रीत 51 मैचों में 61 विकेट चटका चुके हैं।  जसप्रीत बुमराह अब तक भारत के लिए 24 टेस्ट मैच खेल चुके है। उन्होंने 2.66 इकॉनमी के साथ 101 विकेट लिए हैं। 

 

भारत न्यूजीलैंड से 332 रनों से आगे

खेल मंत्रालय: IOA का चुनाव नहीं करवाने की पैरवी पर हाई कोर्ट में इस दिन होगी सुनवाई

सख्त प्रोटोकॉल के बाद भी जूनियर हॉकी वर्ल्डकप में पाया गया कोरोना संक्रमित

 


 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -