Share:
यासरखान के परिजनों ने किया दलित लड़की का बलात्कार, बुर्का पहनने और कुरान पढ़ने को भी मजबूर किया
यासरखान के परिजनों ने किया दलित लड़की का बलात्कार, बुर्का पहनने और कुरान पढ़ने को भी मजबूर किया

अहमदाबाद: देश में ‘लव जिहाद’ को रोकने के लिए कड़े कानून तो बन चुके हैं,  लेकिन फिर भी इस तरह के मामले कम नहीं हो रहे हैं। ताजा मामला गुजरात के नडियाद से सामने आया है, जहाँ एक यासरखान पठान नाम के आऱोपित ने सोशल मीडिया के माध्यम से हिंदू लड़की को फँसाया। फिर उसे विदेश भेजने का प्रलोभन देकर उसका शारीरिक शोषण किया। इस मामले में पुलिस ने 10 में से 8 आरोपितों को अरेस्ट कर लिया है। हालाँकि, इसका मास्टरमाइंड यासरखान पठान और उसका एक साथी अभी भी फरार चल रहा है।

इस मामले का खुलासा उस समय हुआ जब पीड़िता के परिवार ने पुलिस में यासरखान पठान, जाबिरखान पठान (आरोपित का अब्बू), फैजलखान पठान (आरोपित का भाई), शहनाज खान पठान (आरोपित की अम्मी), सुरैयाखान पठान, फरदीनखान सैयद, फरीदबानु मालेक, नदीम मालेक, जय कदम और एक अन्य आरोपित के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई। पीड़ित परिवार ने पुलिस को बताया कि किस तरह यासरखान पठान ने उनकी बेटी को अपने जाल में फंसाकर उसका शारीरिक और मानसिक शोषण किया। रिपोर्ट्स के अनुसार, सोशल मीडिया के माध्यम से यासरखान पठान दो वर्ष पूर्व 2020 में 24 वर्षीय हिंदू पीड़िता के संपर्क में आया। 

लड़की अनुसूचित जाति, यानी कि दलित समुदाय से आती है। धीरे-धीरे उसने पीड़िता के साथ बातचीत करना शुरू की और उसे अपने झूठे प्रेम के जाल में फँसा कर उसे डेट करने लगा। इस बीच एक दिन पीड़िता ने उसे बताया कि वो विदेश से नर्सिंग की पढ़ाई करना चाहती है। मौका देखकर आरोपित ने पीड़िता को बातों में उलझाया और पीड़िता को विदेश भेजने का वादा किया। आरोप है कि यासरखान ने पीड़िता से 5 लाख रुपए लेकर कथित तौर पर उसके लिए कुछ दिनों के लिए दुबई का महिला वीजा प्राप्त किया। 

हालाँकि, उसे वीजा नहीं मिला, तो उसने अकेले ही पीड़िता को दुबई भेज दिया। पीड़िता वहाँ 15 दिनों तक रही, बाद में आरोपित उसे वहाँ से वापस नाडियाद ले आया और खुद किराए के मकान में उसके साथ रहने लगा। आरोप है कि जब आरोपित घर पर नहीं था, तो उसकी अनुपस्थिति का फायदा उठाकर आरोपी के परिवार के लोगों ने पीड़िता का शारीरिक शोषण किया। आरोपितों ने पीड़िता को बुर्का पहनने और नमाज पढ़ने के लिए भी विवश किया। किन्तु, जब पीड़िता इस अत्याचार को सहन नहीं कर सकी, तो वो अपने माता-पिता के पास वापस लौट गई, किन्तु अब पीड़िता के माँ-बाप भी उसे वापस घर में लेने को राजी नहीं थे। जब पीड़िता ने अपने साथ की गई बर्बरता के बारे में बताया तो उसके माता-पिता ने नाडियाद टाउन थाने में शिकायत दी।

पीड़ित के परिजनों का आरोप है कि आरोपित ने उनसे झूठ कहा था कि उनकी बेटी पोलैंड में हैं। उसने पीड़िता के पिता को फोन पर टिकट भी दिखाया था। पीड़िता ने अपने परिवार वालों को पोलैंड जाने के बारे में बताया, तो उन्होंने अपने गहनों को गिरवी रखकर 5 लाख रुपए इकठ्ठा किए। कथित तौर पर पीड़िता ने भी अपनी सोने की चेन को बेच दिया था। बहरहाल, 8 आरोपितों को अरेस्ट कर लिया गया है, जबकि दो अन्य की तलाश जारी है।

नशे की हालत में हैवान बना बाप, नाबालिग बेटी के साथ कर डाला ये गंदा काम

शादी समारोह में झूम रहा था परिवार, तभी 7 वर्षीय बच्ची को उठा कर ले गया पड़ोसी, और फिर...

नाबालिग लड़की को अगवा कर 4 बदमाशों ने की दरिंदगी, फिर इस हालत में फेंककर हुए फरार

 

रिलेटेड टॉपिक्स
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -