Share:
वन रूम ऑफिस से बिलियन-डॉलर एम्पायर तक, इंफोसिस का सफर
वन रूम ऑफिस से बिलियन-डॉलर एम्पायर तक, इंफोसिस का सफर

नंदन नीलेकणि के जीवन और योगदान की खोज

नंदन नीलेकणि एक ऐसा नाम है जो न केवल तकनीक की दुनिया के गलियारों में बल्कि परोपकार की प्रशंसा करने वालों के दिलों में भी गूंजता है। इस लेख में, हम इस उल्लेखनीय व्यक्ति के जीवन और उपलब्धियों पर गहराई से प्रकाश डालते हैं जिन्होंने भारत के आईटी परिदृश्य पर एक अमिट छाप छोड़ी है।

भारत में सबसे अमीर आईटी सह-संस्थापक

भारत के सबसे धनी टेक उद्यमियों की एक झलक

शिव नादर, अजीम प्रेमजी, एनआर नारायण मूर्ति, के क्रिस गोपालकृष्णन और नंदन नीलेकणि भारत के सबसे धनी आईटी सह-संस्थापकों की सूची में शामिल हैं। आइए उनकी चौंका देने वाली निवल संपत्ति पर करीब से नज़र डालें।

  1. शिव नादर - भारत के सबसे धनी आईटी सह-संस्थापक

    • नेट वर्थ: 1,89,996 करोड़ रुपये
  2. अजीम प्रेमजी - भारतीय आईटी के दिग्गज

    • नेट वर्थ: 1,63,082 करोड़ रुपये
  3. एनआर नारायण मूर्ति - इंफोसिस के सह-संस्थापक

    • नेट वर्थ: 24,549 करोड़ रुपये
  4. के क्रिस गोपालकृष्णन - उनमें से सबसे अमीर

    • नेट वर्थ: 26,000 करोड़ रुपये
  5. नंदन नीलेकणि - एक परोपकारी आईटी आइकन

    • नेट वर्थ: 16,327 करोड़ रुपये

इन्फोसिस का जन्म

विनम्र शुरुआत से अरबों डॉलर की सफलता तक की यात्रा

5,99,000 करोड़ रुपये की मार्केट कैप वाली टेक दिग्गज इंफोसिस की शुरुआत सबसे मामूली रही। क्रिस गोपालकृष्णन सहित सात दूरदर्शी लोगों ने 1981 में केवल एक कमरे के कार्यालय से शुरुआत की।

क्रिस गोपालकृष्णन: एक नज़दीकी नज़र

क्रिस गोपालकृष्णन की संपत्ति और उपलब्धियों का अनावरण

इंफोसिस के सह-संस्थापकों में से एक के क्रिस गोपालकृष्णन उनमें से सबसे धनी हैं। आईआईटी मद्रास से अरबपति बनने तक का उनका सफर विस्मयकारी है।

  • नेट वर्थ: 26,000 करोड़ रुपये

एनआर नारायण मूर्ति: एक प्रतिष्ठित नेता

वह दूरदर्शी जिसने भारतीय आईटी उद्योग को आकार देने में मदद की

आईटी उद्योग में एनआर नारायण मूर्ति का योगदान अतुलनीय है। 24,549 करोड़ रुपये की कुल संपत्ति के साथ, वह निर्विवाद रूप से भारत के प्रतिष्ठित बिजनेस लीडरों में से एक हैं।

नंदन नीलेकणि: परोपकारी दूरदर्शी

आईटी की सफलता से लेकर भारत के डिजिटल परिदृश्य को बदलने तक

16,327 करोड़ रुपये की कुल संपत्ति के साथ नंदन नीलेकणि न केवल एक आईटी दिग्गज हैं, बल्कि एक परोपकारी भी हैं, जिन्होंने आधार कार्यक्रम को आगे बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

वापस देने की एक विरासत

शैक्षणिक संस्थानों का पोषण

नंदन नीलेकणी की उदारता की कोई सीमा नहीं है। उन्होंने भारत में शिक्षा के क्षेत्र को आगे बढ़ाते हुए आईआईटी और आईआईएससी जैसे प्रतिष्ठित संस्थानों को 752 करोड़ रुपये का दान दिया है।

भारत के आईटी अग्रदूतों का स्थायी प्रभाव

भारतीय आईटी की दुनिया में, नंदन नीलेकणि, क्रिस गोपालकृष्णन और एनआर नारायण मूर्ति जैसे नाम हमेशा इतिहास में अंकित रहेंगे। उनके योगदान ने न केवल तकनीकी परिदृश्य को बदल दिया है, बल्कि उनके परोपकारी प्रयासों के माध्यम से एक उज्जवल भविष्य का मार्ग भी प्रशस्त किया है।

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -