झारखंड को कुपोषण से मुक्त करें - रघुवर दास

रांची : झारखण्ड की सबसे बड़ी कमजोरी को स्वीकारते हुए सीएम रघुवर दास ने कहा कि कुपोषण झारखंड की बड़ी समस्या है . जिससे वर्ष 2022 तक निजात पाना है. इसके लिए उन्होंने मीडिया, कॉर्पोरेट घरानों और सामाजिक संगठनों से आह्वान किया कि वे इस कार्य में सहयोग करें.

उल्लेखनीय है कि झारखंड में पहली बार आरम्भ हुए CSR (कॉर्पोरेट सामाजिक दायित्व) अवाॅर्ड कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने प्रदेश में काम करने वाली कंपनियों को उनके काम के लिए सम्मानित किया.बता दें कि राज्य सरकार ने वर्ष 2015 में CSR काउंसिल का गठन किया था. इस मौके पर सीएम दास ने कहा कि हमारा लक्ष्य है कि 2022 तक हम झारखंड से गरीबी और कुपोषण से मुक्ति पाकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सपनों के अनुरूप नया झारखंड बनाएँगे.

बता दें कि इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि झारखंड से कुपोषण, मातृ मृत्यु दर, शिशु मृत्यु दर को कम करना है. यह मीडिया, कॉर्पोरेट घरानों और सामाजिक संगठनों के सहयोग के बिना नहीं हो सकता. इसलिए मुख्यमंत्री ने अपील की कि सभी जिम्मेदार लोग और संगठन सरकार की मदद करें.उन्होंने एनजीओ से भी अनुरोध किया कि वे जनता को जागरूक करें.सब्जियां उगाने वाली राज्य की महिलाओं को सब्जी के पोषक तत्वों के बारे बताएं , ताकि पोषण आहार ले सके.

यह भी देखें

योग सिखाने पर मुस्लिम लड़की के खिलाफ फतवा

झारखंड के खाद्य मंत्री की खरी -खरी

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -