देश में पहली बार डॉक्टर ने किया ये कमाल, मिली एक बड़ी सफलता

Sep 15 2020 05:14 PM
देश में पहली बार डॉक्टर ने किया ये कमाल, मिली एक बड़ी सफलता

जयपुर: भारतीय मूल के 55 साल के कनाडाई व्यक्ति के हार्ट के दो वॉल्व का बिना ओपन हार्ट सर्जरी के सफलतापूर्वक परिवर्तित कर दिए गए। जयपुर में हार्ट स्पेशलिस्ट चिकित्सक रविंद्र सिंह राव के नेतृत्व में चिकित्सको की एक टीम ने ट्रांसकैथेटर एओर्टिक वाल्व इंप्लांटेशन तथा ट्रांसकैथेटर माइट्रल वॉल्व रिप्लेसमेंट माध्यम का उपयोग किया। इस प्रकार का यह एशिया का तथा भारत का प्रथम केस है जब एक साथ दो वॉल्वों को परिवर्तित किया गया है।

चिकित्सकों के अनुसार, दिल की कई बीमारियों से ग्रसित मरीज को अपनी दिनचर्या करने के साथ-साथ जरा सा काम करने पर उन्हें सांस लेने में दिक्कत हो रही थी। वही हार्ट फेलियर होने पर उन्हें चंडीगढ़ स्थित उनके गृहनगर में हॉस्पिटल में एडमिट कराया गया। दोनों वॉल्वों के सिकुड़ जाने से टेबलेट काम नहीं कर रही थी। चिकित्सक इसके लिए सिर्फ वॉल्व रिप्लेसमेंट की सलाह दे रहे थे। डॉ राव ने बगैर ऑपरेशन किए टीएवीआई तथा टीएमवीआर के माध्यम से मरीज के दोनों माइट्रल तथा एओर्टिक वाल्व को परिवर्तित कर दिए। वही ये मामला पहला मामला है।

वही दूसरी तरफ देश में COVID-19 वायरस महामारी के कारण संकट का दौर चल रहा है। आए दिन COVID-19 केस बढ़ते जा रहे हैं। सरकार द्वारा तमाम कदम इस महामारी से लोगों को बचाने के लिए उठाए गए, लेकिन अनलॉक के दौरान जनता में बेफिक्री के कारण COVID-19 का प्रकाप बढ़ता चला गया। हालांकि, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा मंगलवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक, पिछले 24 घंटों में कुछ कम मामले सामने आए हैं।

  यूपी में 13 वर्षीय मासूम के साथ दरिंदगी, पुलिस मुठभेड़ में एक आरोपी गिरफ्तार

मेरठ में महिला के साथ कार में सामूहिक दुष्कर्म, दो आरोपी गिरफ्तार

अब घर बैठे कर सकेंगे शक्तिपीठों के दर्शन के लिए रजिस्ट्रेशन