व्रत के दौरान क्या खाएं-क्या नहीं, नियम, फायदे-नुकसान सब जानिए यहाँ

नवरात्रि हो, एकादशी हो, रामनवमी हो, हनुमान जयंती हो, महाशिवरात्रि हो या कोई अन्य त्यौहार हो लोग व्रत रखते हैं। इस लिस्ट में सबसे अव्वल होती है महिलाएं, हालाँकि व्रत के दौरान कई नियमों का पालन करना होता है। व्रत रखना सबके बस की बात नहीं है। बहुत से लोग व्रत रख लेते हैं लेकिन पूरे दिन में उनकी हालत बड़ी खराब हो जाती है, वहीं कुछ लोग ऐसे होते हैं जो व्रत रखने में अव्वल होते हैं और दो-तीन दिन तक व्रत रख सकते हैं वह भी केवल पानी और फल के सहारे। ऐसे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं व्रत रखने के फायदे, व्रत रखने के नुकसान, व्रत के दौरान क्या खाएं और क्या नहीं, व्रत के नियम और व्रत के दौरान खुद को कैसे स्वस्थ रखे और भी बहुत सी बाते जो आपको पता होनी चाहिए।

व्रत रखने के फायदे-
 
शरीर होता है डिटॉक्सीफाई- आपको शायद ही इस बारे में जानकारी होगी कि अगर हफ्ते में एक दिन भी उपवास रख लिया जाए तो बॉडी अच्छी तरह डिटॉक्सीफाई हो सकती है। जी हाँ, वहीं उपवास के दौरान अगर खाद्य पदार्थों की जगह तरल पदार्थों का सेवन किया जाए तो बॉडी अच्छी तरह डिटॉक्सीफाई हो जाती है और उपवास से पाचन बेहतर हो जाता है और पेट संबंधी परेशानियां और त्वचा संबंधी समस्याएं कम होना शुरू हो जाती हैं।

वजन संतुलन में- हफ्ते में एक दिन का व्रत भी वजन को संतुलित रखता है। हर दिन गलत खानपान होने के चलते हमारे शरीर में जो फैट जमा करता है, उससे वजन बढ़ने लगता है। ऐसे में वजन को नियंत्रित करने के लिए एक्सरसाइज के अलावा एक दिन का व्रत रखना भी बहुत जरूरी है। जी हाँ, अगर आप सप्ताह में एक दिन भी उपवास रखते हैं तो ये आपके शरीर के एक्सट्रा फैट को कुछ दिनों में संतुलित कर देता है। ऐसा होने से आपका वजन न घटता है और ना ही अधिक बढ़ता है।


रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है- अगर हफ्ते में मात्र एक दिन भी व्रत रख लें तो रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ना शुरू हो जाती है। जी दरअसल अगर हम यूनिवर्सिटी ऑफ साउथ कैलिफोर्निया के विशेषज्ञों की मानें तो कैंसर के मरीजों के लिए व्रत रखना बहुत फायदेमंद होता है। जी हाँ और खासतौर पर उन मरीजों के लिए जो कीमोथेरेपी ले रहे हैं। केवल इतना ही नहीं बल्कि व्रत करने से नई रोग प्रतिरोधक कोशिकाओं के बनने में मदद मिलती है।


दिमाग स्वस्थ रहता है- अगर हम हफ्ते में एक दिन भी व्रत रख लें तो दिमाग स्वस्थ रहता है। जी हाँ, दिमाग को शांत और स्वस्थ रखने के लिए हफ्ते में एक दिन का व्रत बहुत जरुरी है। व्रत करने से डिप्रेशन और मस्त‍िष्क से जुड़ी कई समस्याओं से छुटकारा मिलने लगता है।

पाचन तंत्र बेहतरीन- आप शायद ही जानते होंगे कि व्रत रखने से पाचन तंत्र अच्छी तरह काम करता है। जी दरअसल कुछ समय पहले ही हुए एक शोध में यह बात सामने आई है कि 62।33 प्रतिशत लोगों को उपवास के दौरान अपच की समस्या नहीं हुई। जबकि 27 प्रतिशत लोगों की अपच की परेशानी ठीक भी हो गई। जी हाँ इसी तरह से हम व्रत रखने से पाचन संबंधी विकार भी दूर कर सकते हैं।

 


कोलेस्ट्रॉल कम करे- व्रत करने से अच्छा कोलेस्ट्रॉल यानी एचडीएल बढ़ता है और खराब कोलेस्ट्रॉल यानी एलडीएल को कम करने में मदद मिलती है। जी हाँ, बहुत कम लोगों को यह जानकारी है कि अगर हफ्ते में एक दिन के व्रत के साथ रोजाना एक्सरसाइज करना शुरू कर दिया जाए तो कोलेस्ट्रॉल को बहुत तेजी से कम किया जा सकता है। जी हाँ और कोलेस्ट्रॉल कम होने से बीपी और हार्ट संबंधी समस्याओं से फटाफट छुटकारा मिल जाता है।

तनाव से राहत- व्रत करने से तनाव से राहत मिलती है। व्रत करें तो तनाव कम होता है और दिमाग में तरह-तरह की बातें नहीं आती। वैसे तनाव एक बहुत बड़ी मेडिकल प्रॉब्लम है लेकिन व्रत करने से तनाव में कमी आती है।

त्वचा की चमक लाजवाब- त्वचा में चमक लाने के लिए भी व्रत रखना बेहतरीन होता है। जी दरअसल ऐसा हम इसलिए कह रहे हैं क्योंकि व्यक्ति के खान-पान का असर उसकी त्वचा पर साफ नजर आता है। जी हाँ और तला-भूना मसालेदार खाना खाने से त्वचा बेजान होना शुरू हो जाती है और चेहरे पर कील-मुंहासे जैसी समस्याओं का आना शुरू हो जाता है। ऐसे में व्रत रखने से शरीर में मौजूद विषाक्त तत्व बाहर निकल जाते हैं और त्वचा चमकदार हो जाती है।


याद्दाश्त बढ़ती है- अगर आपके दिमाग की क्षमता को बढ़ाना है तो आपको हफ्ते में एक दिन उपवास रखना शुरू कर देना चाहिए, क्योंकि यह काफी कारगर उपाय है। जी हाँ, अगर आप हफ्ते में एक बार उपवास रखते हैं तो इससे आपकी सोचने की क्षमता और यादाश्त में तेजी आएगी। केवल यही नहीं बल्कि इससे हमारे दिमाग में ब्रेन डेराइव्ड न्यूरोट्रॉफिक फैक्टर (BDNF) नाम का प्रोटीन काफी मात्रा में बढ़ता है। यह प्रोटीन हमारे दिमाग की कार्यशैली को नियंत्रित करता है। ऐसा होने से दिमाग अच्छे से काम करता है।

व्रत रखने के नुकसान- 

इम्यून सिस्टम कमजोर- अगर आप एक दिन से अधिक दिनों तक के लिए व्रत रखते हैं तो  बिना कुछ खाए-पिए रहने से इम्यून सिस्टम कमजोर हो सकता है। जी दरअसल अगर पूरे दिन कुछ भी ना खाया-पिया जाए तो इम्यून सिस्टम बड़ा कमजोर हो सकता है।

बीमारी हो तो न रखे व्रत- डायबीटीज, किडनी, कैंसर आदि के मरीजों को व्रत ना रखने के लिए कहा जाता है क्योंकि अगर ये व्रत रखते हैं तो इनकी सेहत पर बुरा और नकारात्मक प्रभाव पड़ने लगता है और सेहत बिगड़ने लगती है।

पेट में एसिड नहीं बनता- अगर आप व्रत के दौरान कम खाना खाते हैं तो इससे आपके पेट को नुकसान पहुँचता है और पेट में एसिड बनना भी कम हो सकता है। ऐसे में व्रत उन्ही लोगों को रखना चाहिए जो सेहतमंद हो।

पाचन क्रिया पर असर- व्रत करने वालों या भूखे रहने वालों के पाचन क्रिया पर बहुत असर पड़ता है। जी हाँ और ऐसा करने से गैस्ट्रिक की समस्या पैदा हो सकती है। कई लोगों को बिना खाए-पिए गैस बनने लगती है और व्रत के दौरान ऐसा होना लाजमी है।

बिना पानी वाला व्रत- जी दरअसल दुनियाभर में कई लोग हैं जो व्रत के दौरान पानी तक नहीं पीते। ऐसा करने से डिहाइड्रेशन हो जाता है और फिर इससे सिरदर्द, चक्कर जैसी और दूसरी समस्याएं होने लगती है। कई लोगों के शरीर में तो ऐसी कमियां दिखने लगती है कि उन्हें अस्पताल में एडमिट करवाना पड़ता है।

एनीमिया- अगर कोई काफी लंबे समय तक उपवास या व्रत रखता है तो वह एनीमिया का शिकार हो सकता है। जी हाँ, अगर व्रत के दौरान ज्यादा समय तक भूखे-प्यासे रहते हैं तो आप एनीमिया का शिकार हो सकते हैं।

चिड़चिड़ापन या गुस्सा- कई लोग व्रत के दौरान चिड़चिड़े हो जाते हैं और गुस्से में भी रहते हैं। ऐसा अक्सर उन लोगों के साथ होता है जिनको दिनभर कुछ ना कुछ खाने की आदत होती है।

कैल्‍श‍ियम, व‍िटाम‍िन बी12, आयरन की कमी- अधिक समय तक उपवास या व्रत रहने से शरीर में कैल्‍श‍ियम, व‍िटाम‍िन बी12, आयरन की कमी नजर आने लगती है और व्यक्ति को हॉस्पिटल में एडमिट करने की नौबत आ जाती है।

व्रत में क्या खाएं-

रसदार फलों का सेवन करें- उपवास में खुद को बेहतरीन और सेहतमंद रखने के लिए रसदार फलों का सेवन करें। आप चाहे तो इन फलों को ऐसे ही कहा सकते हैं या फिर आप चाहे तो इन फलों के रस निकालकर पी सकते हैं।


ड्राय फ्रूट्स का सेवन करें- उपवास और व्रत के दौरान अधिक से अधिक ड्राय फ्रूट्स का सेवन करना चाहिए। जी दरअसल शरीर में उपवास रखने के दौरान कई तरह की कमी होने लगती है ऐसे में उन कमी को पूरा करने के लिए ड्राय फ्रूट का सेवन करना चाहिए।

साबूदाना- अगर आप व्रत रख रहे हैं तो आप साबूदाना कहा सकते हैं। साबूदाना व्रत में खाने के लिए उपयोग में लिया जाता है और आप इसे कई तरह से बनाकर खा सकते हैं।

लस्सी- अगर आप व्रत रखते हैं तो आप लस्सी, दूध, दही कहा सकते हैं, पी सकते हैं क्योंकि यह आपको बेहतरीन, तंदरुस्त रखने में मदद कर सकते हैं।

व्रत में क्या ना खाएं-

साइट्रस फल - खट्टे फल व्रत में भूल से भी खाली पेट ना खाए क्योंकि खट्टे फल खाने से एसिड का उत्पादन बढ़ सकता है। वहीं इसके अलावा, फलों में बहुत अधिक फाइबर और फ्रुक्टोज भी खाली पेट खाने पर आपके पाचन तंत्र को धीमा कर सकते हैं।

कच्ची सब्जियां- व्रत के दौरान कई लोग हैं जो कच्ची सब्जियां खाते हैं लेकिन कच्ची सब्जियां में प्रचुर मात्रा में फाइबर पाया जाता है, जिसका व्रत में सेवन करना आपके लिए सही नहीं हो सकता है। इसके अलावा खाली पेट कच्ची सब्जियों का सेवन न करें क्योंकि इससे पेट फूलने और दर्द की परेशानी भी हो सकती है। 


चाय - वैसे तो लोग व्रत के दौरान चाय को खूब पीते हैं लेकिन यह सही नहीं है। बल्कि व्रत में चाय आपको नुकसान दे सकती है, क्योंकि यह पेट में गैस बनाती है और इसके अलावा अगर आप व्रत में चाय पी रहे हैं तो खाली पेट बिलकुल ना पिए। खाली पेट चाय पीने से आपको एसिडिटी, पेट दर्द और जलन की समस्या हो सकती है।

मसालेदार- अगर आपने व्रत रखना है तो व्रत के दौरान कुछ भी मसालेदार ना ही खाएं क्योंकि इससे आपको बड़ी परेशानी उठानी पड़ सकती है।

बाहर का खाना- अगर आपने व्रत रखा है और आप सोच रहे हैं कि आप बाहर का साबूदाना या अन्य फरियाल कहा सकते हैं तो ऐसी गलती ना करें क्योंकि यह आपको महंगी पड़ सकती है।

खाली पेट रहने की न करें गलती- व्रत में खाली पेट रहने की गलती भी ना करें क्योंकि इससे गैस की समस्या के साथ पेट दर्द, सिरदर्द, उल्टी और थकान महसूस हो सकती है। 


व्रत के दौरान खुद को कैसे स्वस्थ रखे-

डेयरी प्रोडक्ट खाए-पिए- अगर आप व्रत में भी सेहतमंद रहने के बारे में सोच रहे हैं तो दूध को शुगर-फ्री फ्रूट मिल्कशेक या फ्रूट लस्सी के रूप में पिए। ऐसा इसलिए क्योंकि ये आपको पूरे दिन एनर्जेटिक बनाए रखेगा। जी दरअसल बॉडी में प्रोटीन इनटेक की मात्रा सही रखने के लिए कम से कम आप 750 मिलीलीटर तक दूध आप ले सकते हैं।


हाइड्रेट रहे- व्रत के दौरान सेहतमंद रहने के लिए हाइड्रेटेड रहना होगा क्योंकि इससे आप पूरे दिन ऊर्जावान बने रह सकते हैं। व्रत में खूब पानी पिएं, मसालेदार और नमकीन खाद्य पदार्थों से बचें और अपने आहार में ताजे फल और सब्जियां शामिल करें।

तले आलू से रहे दूर- जी दरअसल यह आपके स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद नहीं होता है। इस वजह से इसकी जगह आलू का ही दूसरा विकल्प चुन सकते हैं। जी हाँ आप उबले आलुओं को छोटे -छोटे टुकड़े में काटकर इसमें थोड़ी-सी हरी चटनी या इमली की चटनी डालकर, नींबू का रस, नमक, काली मिर्च आदि डालकर अच्छी तरह मिलाकर खा सकते है। आप चाहे तो पनीर की टिकिया या फ्रूट चाट, आलू और मखाने को क्रिस्पी बनाकर खा सकते हैं यह सभी आपको सेहतमंद रखेंगे।

नारियल पानी- अगर आप व्रत में सेहतमंद रहना चाहते हैं तो आप दिन में दो बार नारियल पानी और चीनी की जगह गुड़ खा सकते हैं। इसी के साथ ही दिनभर बीच-बीच में कुछ फल खा सकते हैं जो आपको सेहतमंद रखेंगे।

व्रत रखने के नियम-
* सबसे पहला नियम यह है कि व्रत के दौरान क्षमा, सत्य, दया, दान, शौच, इन्द्रिय संयम, देवपूजा, अग्निहो़त्र, संतोष तथा चोरी न करना ये सभी गुण अपने अंदर विराजमान कर लें।
* दूसरा नियम अनेक बार पानी पीने से बचे, पान खाने से बचे, दिन में सोने से बचे, मैथुन करने से बचे क्योंकि यह सब करने से उपवास दूषित हो जाता है।
* तीसरा नियम व्रत करने वाले मनुष्य को कांसे का बर्तन, मधु व पराए अन्न का त्याग करना चाहिए, इसके अलावा व्रती को कीमती वस्त्र, अलंकार, सुगंधित वस्तुएं, इत्र आदि का उपयोग नहीं करना चाहिए।
* चौथा नियम व्रत में अधिक भोजन नहीं करना चाहिए। जी हाँ, हालाँकि इस दौरान फल के अलावा आप कुट्टू का प्रयोग कर सकते हैं। इसी के साथ ही नमक का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।


* पांचवा नियम ध्यान रहे नवरात्रि व्रत करने वाले को ब्रह्मचर्य का पालन करना चाहिए। इसी के साथ ही व्रत करने वाले व्यक्ति को काम, क्रोध, लोभ और मोह से दूर रहना चाहिए।
* छठवा नियम व्रत करने वाले को झूठ बोलने से बचना चाहिए।
* सांतवा नियम धर्म  शास्त्रों के अनुसार व्रत करने वाले को जमीन पर सोना चाहिए, या फिर लकड़ी के तख्त पर सो सकते हैं।
* आंठवा नियम व्रत करने वालों को व्रत वाले दिन अधिक से अधिक समय तक मौन रहते हुए अपने इष्टदेव से जुड़े मंत्र का जप करना चाहिए।


* नौवा नियम अगर किसी कारणवश आपका व्रत खंडित या छूट जाए तो संकल्पित व्रतों की संख्‍या में एक और दिन व्रत करके उसे पूरा करना चाहिए।
* दसवा नियम व्रत के पूर्ण होने पर उसका विधि-विधान से उद्यापन करना चाहिए और अधिक से अधिक लोगों को प्रसाद बांटते हुए घर के बड़े-बुजुर्गों का आशीर्वाद लेना चाहिए।


व्रत के दौरान क्या न करें- 

* ऐसी मान्यता है कि व्रत रखने वालों को दाढ़ी-मूंछ और बाल नहीं कटवाने चाहिए।

* कहा जाता है व्रत के दौरान भूल से भी नाखून नहीं काटने चाहिए और न घरवालों को काटने देना चाहिए।

* व्रत के दिन भूल से भी घर खाली छोड़कर नहीं जाना चाहिए।

* व्रत के दौरान कभी भी खाने में प्याज, लहसुन और नॉन वेज का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।

* व्रत रखने वालों को गंदे और बिना धुले कपड़े नहीं पहनने चाहिए।

* व्रत रखने वाले लोगों को बेल्ट, चप्पल-जूते, बैग जैसी चमड़े की चीजों का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।

* व्रत रखने वालों को नींबू नहीं काटना चाहिए।
* व्रत में अनाज और नमक नहीं खाना चाहिए।
* व्रत के दौरान फलाहार एक ही जगह पर बैठकर ग्रहण करें।

* व्रत के दौरान शारीरिक संबंध बनाने से व्रत का फल नहीं मिलता है।

आज से करें मां दुर्गा के इन बीज मंत्रों का जाप, पूरी होगी हर मनोकामना

गुड़ी पड़वा के दिन घर में इस जगह छिड़के गंगाजल, घर में आएगी खुशहाली

नवरात्रि में आसानी से घर में बनाए मखाने की चाट, लगती है सबसे टेस्टी

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -