अगर बार-बार फड़कती है आपकी आँख तो कारण हो सकती है ये घातक बीमारी!

आँख फड़कना एक सामान्य बात है लेकिन कई बार आँखों का फड़कना बहुत बड़ी समस्या बन सकती है। वैसे तो आँखों के फड़कने को लोग ज्योतिष से जोड़ते हैं लेकिन इसके कारण शरीर से जुड़े हो सकते हैं। जी हाँ, कई कारण है जिनके चलते आँख फड़कती है और यह किसी घातक बीमारी का संकेत भी हो सकता है। आइए जानते हैं इसके बारे में।

आँख फड़कने के कारण-
वैसे आंखों की मांस पेशियों में समस्या होने से भी आंख फड़क सकती है। 
इसके अलावा तनाव होने के कारण आप ठीक से सो नहीं पाते, नींद पूरी ना होने के कारण भी आपकी आंख फड़क सकती है
इसी के साथ ज्यादा थकान या कम्यूटर, लैपटॉप पर ज्यादा देर काम करते रहने से भी आंख फड़क सकती है।
इसके अलावा आंखों में सूखापन, एलर्जी, पानी आना, खुजली समस्या से भी आंख फड़क सकती है।
कहा जाता शरीर में मैग्नीशियम की कमी होने पर आंख फड़कने की समस्या पैदा सकता है।
इसके अलावा शराब या कैफीन के ज्यादा सेवन से भी ये समस्या हो सकती है।

मायोकेमिया- कहा जाता है आंख फड़कने का यह सबसे सामान्य कारण है मायोकेमिया है। जी दरअसल मायोकेमिया मांसपेशियों की सामान्य सिकुड़न के कारण होता है। इससे आंख की नीचे वाली पलक पर ज्यादा असर पड़ता है। ये बहुत थोड़े समय के लिए होता है और लाइफस्टाइल में बदलाव से इसे कंट्रोल किया जा सकता है।

ब्लेफेरोस्पाज्म और हेमीफेशियल स्पाज्म- आपको बता दें कि ब्लेफेरोस्पाज्म और हेमीफेशियल स्पाज्म दोनों बेहद गंभीर मेडिकल कंडीशन्स में से एक हैं जो अनुवांशिक कारणों से भी जुड़ी हो सकती है। इसमें मरीज को डॉक्टर की सलाह लेने की जरूरत पड़ सकती है। वहीं इस मामले में ब्लेफेरोस्पाज्म तो और भी ज्यादा गंभीर है, जिसमें इंसान की आंख पर कुछ सेकंड, मिनट या कुछ घंटों तक फर्क पड़ सकता है। इसमें ऐंठन इतनी ज्यादा तेज होती है कि इंसान की आंख तक बंद हो सकती है।

COVID बूस्टर प्रोग्राम ही महामारी को कम कर सकता हैं: डब्ल्यूएचओ

विश्व को 2022 में 'कोविड महामारी को समाप्त' करने के लिए एक साथ आना चाहिए: डब्ल्यूएचओ प्रमुख

कोरोना का आखिरी साल होगा 2022, सेलिब्रेशन कैंसिल जिंदगी कैंसिल होने से बेहतर: WHO

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -