चमकी बुखार पर दायर याचिका में सोमवार को सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट

पटना : प्रदेश के अनेक जिलों में एक्यूट इन्सेफ्लाइटिस सिंड्रोम से मरने वाले बच्चों की संख्या अब 130 पर पहुंच गई है। वहीं सुप्रीम कोर्ट इस बीमारी को लेकर दायर हुई एक याचिका पर सोमवार को सुनवाई करने के लिए सहमत हो गया है। याचिका में बीमारी से पीड़ित बच्चों के इलाज के लिए चिकित्सा विशेषज्ञों की एक टीम का गठन करने की तत्काल मांग की गई है। 

उत्तरी सिक्किम में बादल फटने के बाद भयंकर बाढ़ से जनजीवन अस्त-व्यस्त
 
अब तक इतनी मौत 

जानकारी के मुताबिक सुप्रीम कोर्ट 24 जून को सुनवाई के लिए सहमत हो गया है। 130 में से 112 मौत अकेले मुजफ्फरपुर में ही हुई हैं। यहां लोग अपने बच्चों को मुजफ्फरपुर के श्री कृष्ण मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल अस्पताल ला रहे हैं। लोग आरोप लगा रहे हैं कि उनके बच्चों को अस्पताल में भर्ती नहीं किया जा रहा है। लोगों का कहना है कि उन्हें कभी उनके बच्चों के लिए ओआरएस भी नहीं दिया गया।

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर एक नया रिकॉर्ड कायम करने के लिए तैयार है राजधानी

परेशान हो रहे है माता-पिता 

इसी के साथ यहां आ रहे माता-पिता का कहना है, "किसी ने हमें ओआरएस के बारे में कुछ भी नहीं बताया है और ना ही दिया है। हमें एईएस के लक्षण भी नहीं पता हैं। हमारे बच्चे 4-5 दिनों से बुखार में तप रहे हैं। डॉक्टरों ने हमें बच्चों के लिए दवाईयां लाने को कहा। और कहा कि अगर बच्चों का बुखार नहीं जाता है तो उन्हें भर्ती किया जाएगा। हमारे पास पैसे नहीं हैं।

बिहार में जारी दिमागी बुखार के कहर को देख अलर्ट हुई हरियाणा सरकार

इन राज्यों में अब भी नजर आ रहा है ‘वायु’ का असर

अमरनाथ यात्रियों की सुविधा के लिए श्राइन बोर्ड ने जारी किया हेल्पलाइन नंबर

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -