'भूत बन चुकी NDA में नई जान फूंकने की कोशिश की जा रही..', भाजपा गठबंधन की बैठक पर कांग्रेस का तंज
'भूत बन चुकी NDA में नई जान फूंकने की कोशिश की जा रही..', भाजपा गठबंधन की बैठक पर कांग्रेस का तंज
Share:

बैंगलोर: कांग्रेस ने आज यानी सोमवार (17 जुलाई) को कहा कि विपक्षी एकता भारतीय राजनीतिक परिदृश्य के लिए "गेम चेंजर" होगी. इसके साथ ही पार्टी ने भाजपा पर कटाक्ष करते हुए कहा कि जो लोग अकेले विपक्षी दलों को हराने की बात करते थे, वे अब भूत बन चुके NDA में नई जान फूंकने का प्रयास कर रहे हैं।

दरअसल, आज शाम से शुरू होने वाले विपक्षी दलों के दो दिवसीय महत्वपूर्ण विचार-विमर्श पर एक प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए, कांग्रेस महासचिव जयराम रमेश ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अचानक एनडीए की याद आई है। रमेश ने कहा कि, 'NDA में नई जान फूंकने की कोशिश की जा रही है। पहले NDA के बारे में कोई बात नहीं होती थी और अचानक पिछले कुछ दिनों से हम इसके बारे में सुन और पढ़ रहे हैं। अचानक खबर आई कि कल NDA की बैठक बुलाई गई है। तो एनडीए, जो भूत बन गया था, अब उसमें नई जान फूंकने की कोशिश की जा रही है।'  उन्होंने कहा कि यह पटना की बैठक का नतीजा है. बता दें कि, जिस तरह UPA कांग्रेस के नेतृत्व वाला गठबंधन है, उसी तरह NDA में भाजपा के समर्थन वाले दल शामिल हैं और NDA की बैठक समय-समय पर होती रहती है.   

रमेश के साथ प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए कांग्रेस महासचिव केसी वेणुगोपाल ने कहा कि समय आने पर लोग उन लोगों को सबक सिखाएंगे जो शासन में पूरी तरह विफल रहे हैं और झूठे वादों से उन्हें धोखा दिया है। उन्होंने कहा कि 26 विपक्षी दल एकजुट होकर आगे बढ़ने और लोगों की समस्याओं का समाधान देने और इस "तानाशाही सरकार के कार्यों" पर चिंताओं को दूर करने के लिए यहां आए हैं। वेणुगोपाल ने कहा, "इसलिए हम यहां आए हैं। यह दूसरी बैठक है। हम इस बैठक में तय करेंगे कि भविष्य में क्या कार्रवाई होगी।" उन्होंने कहा कि 20 जुलाई से संसद सत्र भी शुरू हो रहा है और विपक्षी दल उसके लिए भी रणनीति बनाएंगे.

 वेणुगोपाल ने कहा कि, 'हमें पूरा यकीन है कि यह भारतीय राजनीतिक परिदृश्य के लिए गेम चेंजर साबित होने जा रहा है और हमें यह देखकर बहुत खुशी हो रही है कि पटना बैठक के बाद जो लोग कह रहे थे कि 'हम पूरे विपक्ष को अकेले हराने में बहुत सहज हैं, अब वे सक्रीय होकर बैठकें करने लगे हैं, यही विपक्षी एकता की असली सफलता है।' बता दें कि, 2024 के लोकसभा चुनावों में भाजपा से एकजुट होकर लड़ने की रणनीति बनाने के लिए विपक्षी दलों के शीर्ष नेता बैंगलोर में जुटे हैं, जहाँ दो दिवसीय विचार-मंथन सत्र होने वाला है।

हंगामे के साथ शुरू हुआ महाराष्ट्र विधानसभा का मानसून सत्र, विपक्षी दलों ने किया वॉकआउट

अध्यादेश विवाद: कांग्रेस के समर्थन के बावजूद AAP को संसद में पटखनी दे सकती है सरकार, ऐसे हासिल होगा बहुमत

NDA की बैठक में शामिल होने के सवाल पर जानिए क्या बोले उपेंद्र कुशवाहा?

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -