हर भारतवासी के मन में बसता है भारत देश

Jan 12 2016 08:05 AM
हर भारतवासी के मन में बसता है भारत देश

tyle="text-align:justify">भारत में गॉंव है, गली है, चौबारा है,
इंडिया में सिटी है, मॉल है, पंचतारा है ।
भारत में घर है, चबूतरा है, दालान है,
इंडिया में फ्लैट और मकान है।
भारत में काका है, बाबा है, दादा है, दादी है,
इंडिया में अंकल आंटी की आबादी है।
भारत में खजूर है, जामुन है, आम है,
इंडिया में मैगी, पिज्जा, माजा का नकली आम है।
भारत में मटके है, दोने है, पत्तल है,
इंडिया में पोलिथीन, वाटर व वाईन की बोटल है।
भारत में गाय है, गोबर है, कंडे है,
इंडिया में सेहतनाशी चिकन बिरयानी अंडे है।
भारत में दूध है, दही है, लस्सी है,
इंडिया में खतरनाक विस्की, कोक, पेप्सी है।
भारत में रसोई है, आँगन है, तुलसी है,
इंडिया में रूम है, कमोड की कुर्सी है।
भारत में कथडी है, खटिया है, खर्राटे हैं,
इंडिया में बेड है, डनलप है और करवटें है।
भारत में मंदिर है, मंडप है, पंडाल है,
इंडिया में पब है, डिस्को है, हॉल है।
भारत में गीत है, संगीत है, रिदम है,
इंडिया में डान्स है, पॉप है, आईटम है।
भारत में बुआ है, मौसी है, बहन है,
इंडिया में सब के सब कजन है।
भारत में पीपल है, बरगद है, नीम है,
इंडिया में वाल पर पूरे सीन है।
भारत में आदर है, प्रेम है, सत्कार है,
इंडिया में स्वार्थ, नफरत है, दुत्कार है।
भारत में हजारों भाषा हैं, बोली है,
इंडिया में एक अंग्रेजी एक बडबोली है।
भारत सीधा है, सहज है, सरल है,
इंडिया धूर्त है, चालाक है, कुटिल है।
भारत में संतोष है, सुख है, चैन है,
इंडिया बदहवास, दुखी, बेचैन है।
क्यों कि ?
भारत को देवों ने रचाया बसाया है,
इंडिया को लालची, अंग्रेजों ने बसाया है।
इसलिए आज भी हमारा भारत महान है, क्योंकि हमारा भारत हमारी रग-रग में बसता हे।