आलू की गिरती कीमतों से उत्पादक परेशान

Dec 24 2017 01:54 PM
आलू की गिरती कीमतों से उत्पादक परेशान

मुंबई : इसे किसानों की बदनसीबी कहें या बाज़ार की टेढ़ी चाल. नया सीजन शुरू होते ही आलू उत्पादक किसान भी आलू की गिरती कीमतों से इस कदर परेशान हैं कि नई फसल के लिए कोल्ड स्टोरेज खाली करने के दबाव के कारण आलू इसलिए नहीं निकल रहे, क्योंकि उसे स्टोरेज से बाहर निकालने की लागत भी नहीं निकल पा रही है . ऐसे में कोल्ड स्टोरेज वाले सड़क पर आलू फेंक रहे हैं.उत्तर प्रदेश के आगरा जिले के स्टॉकिस्ट और गोदाम मालिकों को 20 से 25 पैसे प्रति किलो के भाव में आलू बेचना पड़ रहा है.

बता दें कि, किसान और स्टॉकिस्ट कोल्ड स्टोरेज से आलू निकाल नहीं रहे हैं, क्योंकि गोदाम से निकालकर मंडी तक लाने में जो लागत खर्च आता है, उससे काफी कम भाव पर आलू बिक रहा है. इसी कारण आगरा के कोल्ड स्टोरेज मालिक सड़कों पर आलू फेंक रहे हैं.

उल्लेखनीय है कि, देश के अन्य आलू उत्पादक किसान भी परेशान है, क्योंकि उनकी उपज की कीमत उत्पादन लागत से भी कम हो गई है.  देशभर में आलू के दाम 4 से 5.50 रुपए प्रति किलो हैं, जबकि उसकी उत्पादन लागत 5 रुपए प्रति किलो के करीब आ रही है. किसानों ने सरकार से आलू वायदा कारोबार शुरू करने की अपील करते हुए कहा कि, सरकार ने आलू वायदा की अनुमति दी थी, लेकिन 2014 में उस पर रोक लगा दी गई. वायदा कारोबार आगे की कीमत का पता लगाने का अच्छा संकेतक माना गया है.

यह भी देखें

आलू के रस के इस्तेमाल से रुक जाता है बालो का झड़ना

मप्र में 300 लाख टन आलू सड़कों पर फेकेंगे