क्या काजल लगाने से होती है बच्चों की आंखें बड़ी? जानिए एक्सपर्ट्स की राय
क्या काजल लगाने से होती है बच्चों की आंखें बड़ी? जानिए एक्सपर्ट्स की राय
Share:

कई भारतीय घरों में, जन्म के पांचवें या छठे दिन बच्चे की आंखों में काजल लगाने की परंपरा है। हालाँकि, एक आम धारणा है कि इस अभ्यास से बच्चे की आँखें बड़ी दिख सकती हैं। लेकिन क्या यह वास्तव में सच है? क्या बच्चों की आंखों में काजल लगाना फायदेमंद है? परंपरागत रूप से, भारतीय घरों में दादी-नानी और माताएं अक्सर बच्चों की आंखों में काजल लगाती हैं, इसे आंखों के स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद मानती हैं। शायद बचपन में आपकी भी आंखों में काजल लगा होगा। हालांकि इस मामले पर मेडिकल एक्सपर्ट्स की राय अलग है.

हमारी आंखों के ऊपरी हिस्से में एक लैक्रिमल ग्रंथि होती है, जो आंसू पैदा करने के लिए जिम्मेदार होती है। जब हम पलक झपकाते हैं, तो आंसू कॉर्निया में फैल जाते हैं और हमारी आंखों के कोनों पर स्थित आंसू नलिकाओं के माध्यम से निकल जाते हैं। आँसू हमारी आँखों को सूखापन, गंदगी और धूल से बचाकर स्वस्थ रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। हालाँकि, आंखों में काजल लगाने से संभावित रूप से आंसू नलिकाएं अवरुद्ध हो सकती हैं, जिससे जटिलताएं हो सकती हैं।

काजल लगाने से आंखों में संक्रमण का भी खतरा होता है। काजल अक्सर गाढ़ा और चिपचिपा होता है, जिससे इसमें धूल और गंदगी के कण फंसने का खतरा होता है। इससे आंखों में संक्रमण की संभावना बढ़ सकती है।

आम धारणा के विपरीत विशेषज्ञों का कहना है कि काजल लगाने से बच्चों की आंखें बड़ी नहीं दिखतीं। किसी की आंखों का आकार मुख्य रूप से आनुवांशिकी से निर्धारित होता है, काजल लगाने से नहीं।

जब काजल लगाने की बात आती है, खासकर नवजात शिशुओं को, तो सतर्क रहना जरूरी है। नवजात शिशुओं की नाजुक त्वचा और संवेदनशील आंखें उन्हें काजल में मौजूद रसायनों के कारण होने वाले संक्रमण और जलन के प्रति संवेदनशील बनाती हैं। इसलिए, सलाह दी जाती है कि नवजात शिशु की त्वचा पर काजल सहित किसी भी सौंदर्य उत्पाद का उपयोग करने से बचें।

निष्कर्षतः, हालाँकि बच्चों की आँखों में काजल लगाना कई भारतीय घरों में एक पारंपरिक प्रथा है, लेकिन इससे जुड़े संभावित खतरों पर विचार करना महत्वपूर्ण है। कॉस्मेटिक सुधारों पर ध्यान केंद्रित करने के बजाय, बच्चों की आंखों के स्वास्थ्य और सुरक्षा को प्राथमिकता देना प्राथमिक चिंता होनी चाहिए। माता-पिता और देखभाल करने वालों को बच्चों के लिए उचित नेत्र देखभाल प्रथाओं पर सलाह के लिए चिकित्सा पेशेवरों से परामर्श लेना चाहिए।

नींद ना आने से है परेशान तो अपना लें एक्सपर्ट्स के बताए हुए ये तरीके

क्या आप भी है मॉर्निंग सिकनेस से परेशान? तो ऐसे पाएं राहत

गर्मियों में ऐसे करें एलोवेरा का इस्तेमाल, आपका शरीर रहेगा ठंडा

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -