Share:
नंदी के कान में मनोकामना बोलने के बाद ना करें ये गलती वरना नहीं होगी पूरी
नंदी के कान में मनोकामना बोलने के बाद ना करें ये गलती वरना नहीं होगी पूरी

भगवान शिव के प्रमुख गणों में से एक है नंदी। जी हाँ, कहा जाता है नंदी जी कैलाश पर्वत के द्वारपाल भी हैं और उनका एक स्वरूप महिष भी है। जी दरअसल महिष को बैल भी कहा जाता है। जैसा की आप सभी जानते ही होंगे जब भी हम शिव मंदिर में जाते हैं तो शिवलिंग के सामने कुछ दूरी पर नंदी महाराज विराजमान रहते हैं। यह हमेशा तथा हर शिव मंदिर में होता है। महादेव के साथ नंदी की पूजा आवश्यक मानी जाती है।

अक्सर कई लोग सीधे मंदिर में चले जाते हैं और शिवलिंग की पूजा करके चले जाते हैं, हालाँकि शिवजी के साथ नंदी की पूजा भी करना जरूरी है अन्यथा शिवलिंग की पूजा का पुण्य प्राप्त नहीं होता है। आप सभी को बता दें कि बैल की पूजा या कथा विश्व के सभी धर्मों में मिल जाएगी। दरअसल, शिव जी ने ही नंदी को वरदान दिया था कि जहां उनका निवास होगा वहां नंदी भी हमेशा विराजमान रहेंगे।

वही इस कारण हर शिव मंदिर, शंकर परिवार के साथ-साथ नंदी भी विराजमान होते हैं। इस वजह से आप जब भी मंदिर जाएं तो शिवलिंग का जलाभिषेक करने के बाद नंदी की प्रतिमा के समक्ष दीपक जलाएं उसके पश्चात आप नंदी महाराज की आरती करें और आरती करने के पश्चात आप चुपचाप बिना किसी से बातचीत किए अपनी मनोकामना नंदी महाराज के कानों में बोल दीजिए। ध्यान रहे मनोकामना बोलने के बाद बोलें कि 'नंदी महाराज हमारी मनोकामना पूरी करो।'

भारत ने चावल के निर्यात पर लगाया प्रतिबंध, US में खरीदने वालों की उमड़ी भीड़

ज्ञानवापी में सर्वे करने जुटी ASI की 4 टीमें, रोक लगवाने के लिए सुप्रीम कोर्ट पहुंचा मुस्लिम पक्ष

जानिए भारतीय चाय की अनूठी कहानी

 

 

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -