दिल्ली मेट्रो में नहीं कर सकेंगे खड़े होकर यात्रा, एक कोच में बैठ सकेंगे सिर्फ इतने यात्री

नई दिल्ली: रविवार को ​दिल्ली मेट्रो ने स्पष्ट किया 26 जुलाई से मेट्रो पूरी सीट क्षमता के साथ चलेगी, मगर खड़े होकर यात्रा करने की मंजूरी नहीं होगी। दिल्ली मेट्रो ने बताया कि कुछ मीडिया रिपोर्ट्स से ये लग रहा है कि मेट्रो 100 फीसदी क्षमता के साथ चलेगी, जबकि ऐसा नहीं है तथा मेट्रो में खड़े होकर सफर करने की मंजूरी नहीं होगी।

इसके साथ ही बताया कि सोमवार से इन संशोधित दिशानिर्देशों के साथ भी प्रत्येक कोच में अधिक से अधिक 50 यात्रियों की मंजूरी होगी। कोरोना से पूर्व एक कोच में 300 पेसेंजर होते थे। इससे पूर्व शनिवार को दिल्ली में निरंतर कम हो रहे कोरोना के मामलों को देखते हुए दिल्ली सरकार ने सोमवार से कई चीजों में ढील दी है। दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (DDMA) के अनुसार, सिनेमा हॉल, थिएटर तथा मल्टीप्लेक्स 50 फीसदी क्षमता के साथ काम कर सकेंगे। इसके साथ डीटीसी एवं क्लस्टर की बसों में बैठने की समर्थता को भी 100 फीसदी कर दिया गया। 

वही नए नियमों के तहत अब शादी कार्यक्रम में भी 50 की बजाय 100 व्यक्ति सम्मिलित हो सकेंगे। इसके साथ अब दाह संस्कार में 20 की बजाय 100 लोग सम्मिलित हो सकेंगे। 26 जुलाई से प्राप्त हुई कई छूटों में शर्तों के साथ स्पा खोलने की भी मंजूरी दी गई है। DDMA ने बताया है कि दिल्ली के स्पा भी सोमवार से खुलेंगे। इनमें काम करने वाले कर्मियों का कंप्‍लीट वैक्‍सीनेशन (टीके की दोनों खुराक) अथवा प्रत्येक पखवाड़े आरटी-पीसीआर जांच कराया जाना जरुरी होगा। 

मैडल जीतने के बस 1 कदम दूर मनिका बत्रा, दूसरे राउंड में दर्ज की जबरदस्त जीत

दिल्ली हाई कोर्ट कल करेगा रामदेव के खिलाफ याचिका पर सुनवाई, जानिए पूरा मामला

बुडापेस्ट प्राइड हंगरी में एलजीबीटी अधिकारों के लिए दिया समर्थन

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -