Share:
दमोह स्कूल में निकला मस्जिद तक का गुप्त रास्ता, हुए कई चौंकाने वाले खुलासे
दमोह स्कूल में निकला मस्जिद तक का गुप्त रास्ता, हुए कई चौंकाने वाले खुलासे

दमोह: मध्य प्रदेश के दमोह जिले के गंगा जमुना स्कूल का मामला निरंतर बढ़ता ही जा रहा है। इस मामले में प्रतिदिन किसी ना किसी तरह के खुलासे हो रहे हैं। एमपी एससीपीआर के सदस्यों ने निरीक्षण किया था। उनको विद्यालय से मस्जिद की तरफ जाने वाला एक गुप्त मार्ग भी प्राप्त हुआ है, जिससे यह प्रतीत होता है कि गंगा जमुना विद्यालय के छात्रों को इस्लामी प्रार्थना पढ़ने के लिए विवश किया जाता है।

कक्षा केजी वन से ही छात्रों को इस्लाम से संबंधित शिक्षा प्रदान की जा रही है। यह बात राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग के अध्यक्ष प्रियंक कानूनगो ने दमोह कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक को लिकगी अपनी चिट्ठी में कही है। 7 बिंदुओं के पत्र में अनेक खुलासे किए गए हैं, जिसमें सबसे अहम यह है कि विद्यालय से मस्जिद की तरफ जाने वाला एक गुप्त मार्ग है। प्रतीत होता है कि छात्रों को इस्लामी प्रार्थना पढ़ने के लिए विवश किया जाता है। छात्रों को भारत का गलत भौगोलिक नक्शा पढ़ाया जा रहा है, जिसमें नक्शे के साथ छेड़छाड़ करके आधा भारत गायब कर दिया गया है। वहीं विद्यालय एवं उसके अन्य सभी कारोबारियों के लोगो के रूप में इस्तेमाल किया गया है। जो राष्ट्रीय मानचित्र नीति 2005 एवं भारतीय सर्वेक्षण के द्वारा 2016 में जारी विस्तृत दिशा निर्देशों का उल्लंघन है। 

रिकार्ड के मुताबिक, शिक्षा का माध्यम अंग्रेजी भाषा में होना है तथा हिंदी को दूसरी भाषा के तौर पर उपयोग किया जाना है। वहीं उर्दू को विद्यालय में तीसरी भाषा के तौर पर उपयोग किया जा सकता है, किन्तु निरीक्षण के चलते मध्यप्रदेश राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग के सदस्यों ने यह पाया गया कि उनको एक अनिवार्य प्राथमिक भाषा के तौर पर उपयोग किया गया था। इस तथ्य के बावजूद की उपभाषा छात्रों की मातृभाषा भी नहीं है मगर जबरदस्ती उर्दू भाषा के रूप में अनेक तरह के साहित्य के जरिए शिक्षा दी जा रही है। मध्य प्रदेश बाल संरक्षण आयोग की सदस्य मेघा पवार ने भी इस बात का खुलासा किया कि गंगा जमुना स्कूल के केजी वन के सिलेबस में धर्म विशेष से जुड़े विषयों को हिंदी बच्चों को भी पढ़ाया जा रहा था। केजी के बच्चों को इस्लाम से संबंधित बातें बताई जा रही थीं। हिंदू बच्चों पर इसे याद करने के लिए दबाव बनाया जा रहा था। इसके अतिरिक्त उन्होंने अन्य बिंदुओं पर भी कार्यवाही करने हेतु कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक को निर्देशित किया है तथा शाला की मान्यता को निरस्त करने के लिए निर्देशित कर FIR करने को कहा है।

केरल से आगे बढ़ा मानसून, जल्द मालवा निमाड़ में देगा दस्तक

'पोस्टर लगाने वालों को ठोक देना चाहिए...', कोल्हापुर विवाद पर बोले संजय राउत

कांग्रेस ने खोला 'सिसोदिया' का एक और घोटाला ! सीएम केजरीवाल के रोने पर भी कसा तंज

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -