कमजोर पड़ा चक्रवाती तूफ़ान 'जवाद', इस जगह से हुआ था पैदा

नई दिल्ली: चक्रवाती तूफान ‘जवाद’ कमजोर हो चुका है. IMD ने बोला है कि चक्रवाती तूफान ‘जवाद’ को कमजोर होकर एक गहरे दबाव में परिवर्तित हो चुका है. पुरी पहुंचने तक इसके और कमजोर पड़ने का अनुमान है. यह आंध्र प्रदेश, ओडिशा और पश्चिम बंगाल के लिए बड़ी राहत की बात है. IMD ने एक बयान में बोला है कि चक्रवाती तूफान कमजोर होकर एक गहरे दबाव में परिवर्तित हो चुका है और यह शाम 5:30 बजे पश्चिम-मध्य बंगाल की खाड़ी के ऊपर, विशाखापत्तनम, आंध्र प्रदेश से लगभग 180 किमी पूर्व-दक्षिण पूर्व में और पुरी, ओडिशा से 330 किमी दक्षिण-दक्षिण-पश्चिम में देखा गया था.

जहां इस बारे में उन्होंने कहा है कि  ‘‘इसके उत्तर-पूर्व की ओर बढ़ने तथा कल प्रातः तक इसके और कमजोर होकर दबाव में बदलने का अनुमान है. इसके कल दोपहर के आसपास पुरी के निकट पहुंचने का अनुमान लगाया जा रहा है. जिसके उपरांत इसके उत्तर-पूर्व की ओर ओडिशा के तट के साथ पश्चिम बंगाल के तट की ओर बढ़ने तथा अगले 24 घंटों के बीच इसके और कमजोर होकर निम्न दबाव के क्षेत्र में परिवर्तन का अनुमान है.’’ सऊदी अरब ने चक्रवात का नाम ‘जवाद’ रखा है, जिसका मतलब उदार या दयालु से है.

बीते 30 नवंबर को अंडमान सागर के ऊपर कम दबाव का इलाका विकसित होता हुआ दिखाई दिया था. IMD ने बोला है कि यह दो दिसंबर को एक दबाव के इलाके में और शुक्रवार की सुबह गहरे दबाव के क्षेत्र में परिवर्तित हो गया तथा शुक्रवार दोपहर यह चक्रवात का रूप ले लिया.  IMD ने रविवार को पश्चिम बंगाल में गंगा के तटों से लगते इलाकों और उत्तरी ओडिशा में अलग-अलग स्थानों पर भारी से बहुत भारी वर्षा तथा रविवार और सोमवार को असम, मेघालय और त्रिपुरा में अलग-अलग स्थानों पर भारी वर्षा का पूर्वानुमान लगाया जा चुका है. IMD ने रविवार तक बंगाल की मध्य और उत्तरी खाड़ी में नौवहन और मछुआरों के लिए समुद्री स्थिति प्रतिकूल रहने वाला है. 

दुनिया से रुखसत हुआ मीडिया जगत का ये मशहूर पत्रकार, इसी साल पत्नी की गई थी जान

भारत न्यूजीलैंड से 332 रनों से आगे

भारत को नए क्षेत्रों में निवेश की आदत बनानी चाहिए: नीति आयोग

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -