विदेशों से आयात सस्ता होने के कारण कपास के भाव पर पड़ा सीधा असर

नई दिल्ली : विदेशों से आयात सस्ता होने से इस साल घरेलू बाजार में सफेद सोना यानी रूई की चमक पिछले साल जैसी नहीं रही है। अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कॉटन का भाव जून के पहले सप्ताह में जहां 90 सेंट प्रति पौंड से ऊपर चल रहा था वहां इस समय 65 सेंट प्रति पौंड के स्तर पर आ गया है। 

RBI : इतने फीसद होगा अप्रैल-सितंबर में खुदरा महंगाई आंकड़ा

ऐसा रहा कॉटन का हाल 

सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार विदेशों में कॉटन का भाव गिरने से दुनिया का सबसे बड़ा कपास उत्पादक देश भारत में कॉटन का आयात बढ़ गया है और निर्यात में कमी आई है। विदेशी बाजार में कॉटन का भाव घटने से भारतीय बाजार में भी कॉटन का भाव ठंडा पड़ गया है। घरेलू वायदा बाजार मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज पर शुक्रवार को कॉटन जून डिलीवरी अनुबंध पिछले सत्र के मुकाबले 320 रुपये यानी 1.48 फीसदी लुढ़ककर 21,280 रुपये प्रति गांठ (170 किलो) पर आ गया। 

विश्व बैंक को भारतीय अर्थव्यवस्था की तेज विकास दर का भरोसा, RBI ने लगाया ये अनुमान

आगे ऐसी है उम्मीदें 

इसी के साल पिछले साल सात जून को एमसीएक्स पर कॉटन का भाव 22,710 रुपये प्रति गांठ पर बंद हुआ था। वहीं, अंतर्राष्ट्रीय वायदा बाजार इंटरकांटिनेंटल एक्सचेंज (आईसीई) पर कॉटन का जुलाई डिलीवरी अनुबंध शुक्रवार को 4.18 फीसदी की गिरावट के साथ 65.72 सेंट प्रति पौंड पर कारोबार कर रहा था। पिछले साल सात जून को आईसीई पर कॉटन का भाव 94.08 सेंट प्रति पौंड पर बंद हुआ था। 

आरबीआई की रेपो रेट में कटौती का आम नागरिक पर पड़ेगा कुछ इस तरह से असर

'वेंकी मामा' के निर्माताओं ने पोस्टर के साथ किया ऐसे संदेश का खुलासा

आरबीआई ने की बड़ी घोषणा, रेपो रेट छह फीसदी से घटाकर 5.75 फीसदी किया गया

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -