CORONAVIRUS: चीन में बढ़ी परेशानी, बिना लक्षण वाले मिल रहे कोरोना संक्रमित

बीजिंग: बीते कई दिनों से लगातार बढ़ता जा रहा कोरोना का कहर मासूम लोगों की जान का दुश्मन चुका है, हर दिन इस वायरस के कारण दुनियाभर में हजारों मौते हो रही है. वहीं लगातार संक्रमितों का आंकड़ा बढ़ता ही जा रह है, इतना ही नहीं अब तो कोरोना वायरस ने एक महामारी का रूप भी ले लिए है जिसके बाद से लोगों के घरों में खाने की किल्लत बढ़ती ही जा रही है न जाने इस वायरस के कारण और ऐसी कितनी मासूम जिंदगियां है जो तबाही के कगार पर आ चुकी है. वहीं अब तक दुनियाभर में मौत का आंकड़ा 2 लाख 52 हजार के पार हो चुका है और अभी भी इस वायरस का कोई तोड़ नहीं मिल पाया है.

कई देशों ने अब कोरोना लॉकडाउन में रियायतें देनी शुरू कर दी हैं. इनमें भारत और चीन जैसे दुनिया की बड़ी आबादी वाले देश शामिल हैं. लॉकडाउन में राहतों के मिलते ही बड़ी आबादी वाले देशों में लाखों लोग बाहर सड़कों पर निकल गए. हालांकि इसी बीच भारत समेत कई देशों में रविवार को एक दिन में संक्रमण के सबसे ज्यादा मामले सामने आए... यही नहीं चीन में भी कुछ स्‍थानीय मामले सामने आए हैं. विशेषज्ञों की मानें तो यह चिंता का विषय है. चीन के एक शीर्ष स्वास्थ्य अधिकारी ने भी आगाह किया कि देश में कोरोना के लौटने का खतरा बरकरार है.

बिना लक्षण के मामलों से चीन में चिंता: चीन में बीते दो हफ्तों में प्रांत-स्तरीय 10 क्षेत्रों में इनके प्रसार के स्थानीय स्तर पर नए मामले सामने आए हैं. चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग ने बताया कि रविवार को कोरोना वायरस के तीन नए मामले सामने आए. ये तीनों मरीज विदेश से चीन पहुंचे थे. इसके अलावा 13 ऐसे मामले भी सामने आए हैं जिनमें कोई लक्षण नहीं दिख रहे थे. एनएचसी की मानें तो रविवार तक 962 उन मामलों को निगरानी में रखा गया है, जिनमें बीमारी का कोई लक्षण नहीं दिखा था. इनमें 98 मामले विदेश से आए हैं. वहीं ज्यादा आबादी वाले देश भारत में रविवार को संक्रमण के 2,500 नए मामले सामने आए.

कुछ इस तरह शुरू हुआ था पूर्व राष्ट्रपति ज्ञानी ज़ैल सिंह का राजनीतिक सफर

विश्व अस्थमा दिवस: कहीं आपको भी सांस लेने में तकलीफ तो नहीं ?

सिखों के दूसरे गुरु, जिन्हे लोग प्यार से कहते थे 'भक्त अमरदास'

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -