Share:
इस वजह से सैनिटाइजेशन मशीन में शामिल सोडियम हाइपोक्लोराइट पर लगी रोक
इस वजह से सैनिटाइजेशन मशीन में शामिल सोडियम हाइपोक्लोराइट पर लगी रोक

मध्य प्रदेश की राजधानी में कोरोना का संकट और भी गहराता जा रहा हैं. ऐसे में भोपाल समेत देशभर में कोरोना के खिलाफ जंग के लिए सैनिटाइजेशन का काम जोरों पर है. इसके लिए कई सार्वजनिक स्थानों पर फुल बॉडी सैनिटाइजिंग मशीन भी लगाई गई है, लेकिन आप जानकर थोड़ा परेशान हो सकते हैं कि इस मशीन में उपयोग होने वाला सोडियम हाइपोक्लोराइड रसायन व्यक्ति की आंख, त्वचा, पेट और गले के लिए नुकसानदायक साबित हो सकता है, इसलिए केंद्र सरकार ने अब फुल बॉडी सैनिटाइजिंग मशीन में इस रसायन के उपयोग पर रोक लगा दी है. केंद्र सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने प्रदेश समेत देशभर के राज्यों को इस संबंध में एक गाइडलाइन भेजी है. केंद्र के अनुसार यह रसायन शारीरिक व मानसिक दोनों रूप से शरीर पर विपरीत प्रभाव डालता है.

बता दें की फुल बॉडी सैनिटाइजेशन को लेकर केंद्र सरकार की हेल्प डेस्क पर कई सवाल पूछे जा रहे थे. इस पर एक शोध के बाद डायरेक्टर जनरल ऑफ हेल्थ सर्विज (ईएमआर डिविजन) ने नई गाइडलाइन जारी की है. चार बिंदुओं की इस गाइडलाइन में बताया गया है कि सैनिटाजेशन में सोडियम हाइपोक्लोराइड का उपयोग किया जाता है जो शरीर पर उपयोग के लिए नहीं है. लोगों पर इसका स्प्रे नहीं किया जाना चाहिए. आपको बता दें कि निगम द्वारा स्मार्ट सिटी दफ्तर, अस्पतालों, पुलिस लाइन व कई सार्वजनिक स्थानों पर इसे बॉडी सैनिटाइजेशन की व्यवस्था की है. वहीं सैनिटाइजेशन कार्य में जुटे निगम कर्मचारी भी इसके दुष्प्रभाव को झेल रहे हैं. अधिकांश को आखों में जलन की समस्या आम हो गई है.

जानकारी के लिए बता दें की सोडियम हाइपोक्लोराइट केमिकल सिर्फ उपकरणों, वस्तुओं के शुद्धिकरण के लिए उपयोग किया जा सकता है. इसके छिड़काव से शरीर में चर्म व नेत्र रोगों की आशंका कई गुना अधिक होती है. इसके छिड़काव के बाद हवा में मिलने मात्र से आंखों में जलन भी होती है. त्वचा से संपर्क पर भी जलन होती है. रिपोर्ट में इस रसायन के स्प्रे पर उल्टी, पेट, नाक व गला संबंधित रोग, एलर्जी के साथ मानसिक रोग का कारक बताया है.

भोपाल में कोरोना से संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़ी, अब तक 219 केस आए सामने

मध्य प्रदेश के इन तीन शहरों को छोड़कर अन्य जिलों में खुलेंगे दफ्तर-उद्योग

इंदौर में एक और वरिष्‍ठ चिकित्‍सक का हुआ निधन, नहीं पता चली मौत की वजह

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -