Share:
पुरानी साड़ियों से बदलें घर का इंटीरियर
पुरानी साड़ियों से बदलें घर का इंटीरियर

कौन कहता है कि घर को सजाने के लिए पैसों की आवश्यकता होती है। हम आपको यहां बताने जा रहे हैं, पुरानी साड़ियों के कुछ ऐसे इस्तेमाल जिन्हें अपनाकर आप अपने घर की तस्वीर बदल सकती हैं।

पैच का कमाल- बनारसी व कांजीवरम अपने वर्क के लिए जानी जाती हैं, ऐसे में इन साड़ियों के खूबसूरत वर्क को आप निकाल कर कॉटन के कपड़े पर स्टिच कर दें और इसे पैच की तरह कुशन या पिलो कवर पर लगा सकती हैं। या फिर कॉटन की प्लेन क्रीम या सफेद चादर पर किनारे लगाकर उसे खूबसूरत बना सकती हैं। इन टुकड़ों को दीवार पर भी फ्रेम करवाकर सजाया जा सकता है।

ड्राइंग रूम की बदलें छवि- गोल्डन, सिल्वर बीड्स व बेशकीमती कढ़ाई से सुसज्जित ये साड़ियां घर के इंटीरियर को भी नया रूप दे सकती हैं। आप इन साड़ियों से अपने ड्राइंग रूम के परदे बना सकती हैं लेकिन परदे बनाते वक्त आपको ढ़ेर सारी साड़ी की जरूरत पड़ेगी इसलिए बेहतर होगा कि आप पर्दों के लिए मिक्स एंड मैच का तरीका अपनाएं। कलरफुल व रेशमी ये पर्दे कमरे की रौनक को दोगुना कर देंगे। इसके अलावा इन साड़ियों से आप बेड या फिर रजाई कवर भी बना सकती हैं। ब्यूटीफुल बुकमार्क बुक पढ़ने की आदत है तो आप अपनी साड़ियों को बुकमार्क के रूप में भी सहेज सकती हैं। साड़ियों के इन बॉर्डर को आयातकार शेप में काट लें और ग्लू की मदद से कॉर्ड बोर्ड पर चिपका दें। अब इसके छोर के अंत पर एक होल करके साटिन का छोटा सा रिबन बांध दें। इस बुकमार्क को और भी खूबसूरत बनाने के लिए बॉर्डर के रंग से कांप्लिमेंट करता हुआ रिबन बांधें, जैसे ग्रीन बॉर्डर पर रेड और सिल्वर ब्लैक आदि।

कतरनों से उपाय- ये सबकुछ करने के बाद सभी साड़ियों से कतरन बचना संभव है। इन कतरनों को फेंकने की बजाय आप इनका भी सद्पयोग कर सकती हैं। सभी कतरनों को आपस में जोड़ लें और फिर इस खूबसूरत डिजाइन को कॉटन के प्लेन कपड़े पर सिलाई लगा दें। इस कपड़े को ऊपर से लगाकर आप सोफे व बच्चों की गद्दियां बना सकते हैं। इन गद्दियों में आप रूई या फिर फोम का इस्तेमाल कर सकती हैं। साड़ियों से बनी ये गद्दियां आपके कमरे को एथनिक अंदाज़ में सुंदर दिखाएंगी।

जानिए सिल्क की साड़ी पर बनाये कौन सा हेयर स्टाइल

नोटों के साथ अब बाजार में आ गयी है 2000 के नोट वाली साड़ी, गुजरात में है भारी डिमांड

फर्नीचर एंड इंटीरियर डिजाइन में करियर की बढ़ रही है मांग

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -