ज्ञानवापी वाले जज को चाँद पाशा ने बताया ‘RSS का जूता चाटने वाला’, कर्नाटक में मचा बवाल
ज्ञानवापी वाले जज को चाँद पाशा ने बताया ‘RSS का जूता चाटने वाला’, कर्नाटक में मचा बवाल
Share:

रामनगर: वाराणसी की जिला न्यायालय ने बीते महीने ज्ञानवापी ढाँचे के व्यास जी तहखाना में पूजा का अधिकार हिंदुओं को दिया था। इस निर्णय के पश्चात् कर्नाटक के रामनगर में एक नया विवाद आरम्भ हो गया है। मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक, फैसला सुनाने वाले जज को लेकर अधिवक्ता चाँद पाशा ने आपत्तिजनक टिप्पणी की थी। पाशा प्रतिबंधित इस्लामी संगठन PFI की राजनीतिक विंग SDPI से भी जुड़ा हुआ है। उसकी टिप्पणी का विरोध करने वाले अधिवक्ताओं पर SI तनवीर हुसैन द्वारा FIR करने के पश्चात् इस मामले ने तूल पकड़ लिया है।

वही यह मामला एक अभद्र फेसबुक पोस्ट से जुड़ा हुआ है। रिपोर्टों के मुताबिक, SDPI से जुड़े अधिवक्ता चाँद पाशा ने वाराणसी न्यायालय के जज के फैसले पर प्रश्न उठाते हुए एक पोस्ट किया। उसने हिंदुओं को व्यास जी तहखाना में पूजा करने की अनुमति देने वाले जज को कथित तौर पर RSS का ‘जूता चाटने वाला’ बताया था। इसको लेकर रामनगर के अधिवक्ताओं ने चाँद पाशा के खिलाफ इजूर पुलिस थाने में शिकायत दर्ज करवाई। पाशा को जिले के वकील संघ से निकाले जाने की माँग भी हुई। इसको लेकर जब बैठक बुलाई गई तो उसमें झगड़ा हो गया। आरोप है कि पाशा ने इस बैठक में खलल डाला।

अधिवक्ताओं ने आरोप लगाया है कि पाशा एवं उसके समर्थकों ने उत्पात मचाया। तत्पश्चात, पाशा के एक साथी रफीक खान ने विरोध करने वाले अधिवक्ताओं के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई। इस पर इजूर थाने के SI तनवीर हुसैन ने 10 अधिवक्ताओं सहित 40 लोगों के खिलाफ FIR दर्ज कर ली। अधिवक्ताओं ने तनवीर पर पक्षपात करने का आरोप लगाया है। उन्होंने रामनगर में जिला कलेक्टर के कार्यालय के बाहर धरना देकर तनवीर को सस्पेंड किए जाने की माँग की है। इसको लेकर अधिवक्ताओं ने रामनगर में रैली भी निकाली। अधिवक्ताओं ने आरोप लगाया है कि स्थानीय प्रशासन डिप्टी सीएम डीके शिवकुमार एवं स्थानीय विधायक MA इकबाल हुसैन के दबाव में काम कर रहा है।

रामनगर की इस घटना पर अब प्रदेश में सियासी पारा भी चढ़ गया है। बीजेपी एवं जेडीएस ने प्रदेश की कांग्रेस सरकार पर पक्षपात का आरोप लगाते हुए प्रदर्शन कर रहे अधिवक्ताओं का समर्थन किया है। कर्नाटक विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष एवं बीजेपी MLA आर अशोक ने आरोप लगाया है कि SI तनवीर हुसैन राष्ट्रविरोधी ताकतों को सहायता दे रहा है। अशोक ने कहा कि चाँद पाशा निरंतर ऐसे ही अभद्र बयान देता रहा है तथा उसके खिलाफ जिले में 12 शिकायतें दर्ज हैं। 

बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष बीवाई विजयेन्द्र ने भी इस मामले पर प्रदेश की कांग्रेस सरकार पर हमला बोला है। उन्होंने कहा कि प्रदेश की पुलिस को चाँद पाशा को गिरफ्तार करना चाहिए था, क्योंकि उसने न्यायपालिका पर अभद्र टिप्पणी की थी। उन्होंने कहा कि तनवीर हुसैन को ऊपर से किसी ताकत का समर्थन हासिल है, क्योंकि उसने एक राष्ट्र विरोधी के साथ खड़े होने का काम किया है। इसकी उन्होंने तहकीकात की माँग की है। कहा जा रहा है कि चाँद पाशा को तो गिरफ्तार कर लिया गया है, किन्तु अधिवक्ता अपनी माँग पर अड़े हैं। उनका कहना है कि इस मामले में तनवीर हुसैन ने सही आचरण नहीं दिखाया इसलिए उसे भी सस्पेंड किया जाना चाहिए। इसको लेकर आज (21 फरवरी 2024) बेंगलुरु में प्रदर्शन की भी चेतावनी दी है।

व्यापम घोटाले में आखिर आ ही गया फैसला, कोर्ट ने 7 दोषियों को सुनाई 7 साल की सजा, 12 बरी

लीक हो गया उत्तर प्रदेश पुलिस भर्ती का पेपर ? खबरों पर बोर्ड ने खुद दिया जवाब

'उनसे मिलकर ट्रॉमा में हैं बेटियां', महाभारत फेम नीतीश भारद्वाज की पत्नी ने दिया बड़ा बयान

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -