इन गलतियों के कारण होता है ब्रेस्ट कैंसर, आज ही बनाएं दुरी
इन गलतियों के कारण होता है ब्रेस्ट कैंसर, आज ही बनाएं दुरी
Share:

महिलाओं में स्तन कैंसर काफी आम हो गया है। यदि शुरुआत से ही इस बीमारी पर ध्यान नहीं दिया गया तो यह मृत्यु का एक बड़ा खतरा पैदा कर सकता है। स्तन कैंसर का खतरा आनुवंशिक, जीवनशैली और पर्यावरणीय कारकों से प्रभावित होता है।

अस्वस्थ जीवन शैली:
अस्वास्थ्यकर जीवनशैली के कारण स्तन कैंसर का प्रसार तेजी से फैल रहा है। कम उम्र में ही महिलाओं को इस समस्या का सामना करना पड़ रहा है। जीवनशैली से जुड़ी कुछ गलतियां स्तन कैंसर के खतरे को बढ़ा सकती हैं।

धूम्रपान:
धूम्रपान हर किसी के लिए हानिकारक है। यदि आप धूम्रपान करते हैं, तो इसे छोड़ने से कैंसर का खतरा काफी हद तक कम हो सकता है।

स्तनपान नहीं कराना:
जो महिलाएं अपने बच्चों को लंबे समय तक स्तनपान कराती हैं उनमें स्तन कैंसर का खतरा उन महिलाओं की तुलना में थोड़ा कम हो सकता है जो ऐसा नहीं करती हैं।

हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी (एचआरटी):
कुछ हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी का लंबे समय तक उपयोग, विशेष रूप से एस्ट्रोजेन और प्रोजेस्टिन के संयोजन से, स्तन कैंसर का खतरा बढ़ सकता है। यदि आप रजोनिवृत्ति के लक्षणों के लिए एचआरटी पर विचार कर रहे हैं, तो अपने डॉक्टर से इसके लाभों और जोखिमों पर चर्चा करें।

मोटापा:
हर किसी के लिए अपने वजन के प्रति जागरूक रहना बेहद जरूरी है। अच्छे स्वास्थ्य के लिए संतुलित आहार और नियमित शारीरिक गतिविधियाँ आवश्यक हैं। इससे स्तन कैंसर के खतरे को कम करने में मदद मिल सकती है।

अत्यधिक चीनी का सेवन:
मिठाइयों और प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थों, मीठे स्नैक्स और पेय पदार्थों का सेवन कम करना आवश्यक है। ऐसे खाद्य पदार्थ वजन बढ़ाने और स्तन कैंसर के खतरे को बढ़ाने में योगदान करते हैं। फलों, सब्जियों, साबुत अनाज और लीन प्रोटीन से भरपूर संतुलित आहार का सेवन करने की सलाह दी जाती है।

आसीन जीवन शैली:
आज की गतिहीन जीवनशैली में स्तन कैंसर का खतरा बढ़ जाता है। हम अपना ज्यादातर समय दफ्तरों में बैठे-बैठे बिताते हैं और नियमित शारीरिक गतिविधियां कम हो गई हैं। तेज़ चलना, जॉगिंग या तैराकी इस जोखिम को कम करने में मदद कर सकती है। इसलिए अपनी शारीरिक गतिविधियों को बढ़ाना जरूरी है।

नियमित जांच:
नियमित स्तन कैंसर की जांच, जैसे मैमोग्राम और क्लिनिकल स्तन परीक्षण, आयोजित किए जाने चाहिए। शीघ्र पता लगने से उपचार के बेहतर परिणाम मिलते हैं। स्तन कैंसर का जोखिम बहुघटकीय है और अलग-अलग व्यक्तियों में अलग-अलग होता है।

नोट:-
इस सामग्री के साथ यह सलाह, केवल सामान्य जानकारी के लिए प्रदान की गई है। यह किसी भी तरह से पेशेवर चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श लें।

उम्र बढ़ने के साथ रूटीन में शामिल करें ये चीजें, नहीं बिगड़ेगी सेहत

क्या आप रख रहे है 9 दिन व्रत? तो फॉलो करें ये टिप्स, रहेंगे तंदुरुस्त

क्या आपको भी है नाखून चबाने की आदत? तो जरूर पढ़ लें ये खबर

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -