Share:
देश के 12 राज्यों में 'कमल' का राज, महज 3 राज्यों में सिमटी कांग्रेस..! अब लोकसभा चुनाव में 'मोदी हैट्रिक' लगने के पूरे आसार
देश के 12 राज्यों में 'कमल' का राज, महज 3 राज्यों में सिमटी कांग्रेस..! अब लोकसभा चुनाव में 'मोदी हैट्रिक' लगने के पूरे आसार

नई दिल्ली: राजस्थान, छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश में हाल के विधानसभा चुनावों के दौरान एक शानदार जीत में, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने अपने राजनीतिक पदचिह्न का काफी विस्तार किया है, अब वह भारत के 28 राज्यों में से 12 पर कमान संभाल रही है। यह निर्णायक परिणाम भाजपा को प्रमुख राजनीतिक ताकत के रूप में स्थापित करता है, जबकि कांग्रेस पार्टी के पास केवल तीन राज्यों - तेलंगाना, कर्नाटक और हिमाचल प्रदेश - पर नियंत्रण रह गया है।

भाजपा की राजनीतिक बढ़त चार अतिरिक्त राज्यों - महाराष्ट्र, नागालैंड, सिक्किम और मेघालय में सत्तारूढ़ गठबंधन में उसकी भागीदारी से और अधिक रेखांकित होती है। 2014 से 3 दिसंबर 2023 तक के आंकड़ों के विश्लेषण से पता चलता है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सत्ता संभालने के बाद से भाजपा के राजनीतिक मानचित्र का तेजी से विस्तार हुआ है। दिसंबर 2023 तक, भाजपा उन क्षेत्रों पर शासन करती है जो भारत के 58% भूमि क्षेत्र का उल्लेखनीय हिस्सा हैं, जिसमें 57% आबादी है। इसके विपरीत, कांग्रेस द्वारा शासित राज्यों में देश का 41% भूभाग शामिल है और वहां 43% आबादी निवास करती है।

 

राजस्थान, छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश में भाजपा की हालिया जीत आगामी 2024 के आम चुनावों के लिए एक रणनीतिक प्रस्तावना के रूप में काम करती है। प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने जीत के जवाब में, राज्य चुनावों में भाजपा की "हैट-ट्रिक" को 2024 के लोकसभा चुनावों में पार्टी की अपेक्षित सफलता का अग्रदूत घोषित किया। उन्होंने चुनावी नतीजे को भाजपा के एजेंडे के स्पष्ट समर्थन के रूप में चित्रित किया, जो आत्मनिर्भर भारत को बढ़ावा देने, सुशासन सुनिश्चित करने और पारदर्शिता के सिद्धांतों को बनाए रखने पर केंद्रित था।

इन महत्वपूर्ण राज्यों में विजयी जीत न केवल भाजपा की स्थिति को मजबूत करती है बल्कि इसकी नीतियों और नेतृत्व की प्रतिध्वनि को भी दर्शाती है। पार्टी के वैचारिक आधार और रणनीतिक राजनीतिक पैंतरेबाज़ी ने स्पष्ट रूप से मतदाताओं के साथ तालमेल बिठाया है, जो देश के विभिन्न क्षेत्रों में चुनावी जीत में तब्दील हुआ है।

जैसे-जैसे राजनीतिक मानचित्र विकसित होता जा रहा है, भाजपा का गढ़ लगातार बढ़ता जा रहा है, जिससे 2024 के आम चुनाव में कड़े मुकाबले की जमीन तैयार हो रही है। बड़ी संख्या में राज्यों में पार्टी का प्रभुत्व इसे एक मजबूत दावेदार के रूप में खड़ा करता है, जबकि कांग्रेस पार्टी को अपनी खोई हुई जमीन वापस पाने की चुनौती का सामना करना पड़ रहा है। सामने आ रहा राजनीतिक परिदृश्य एक दिलचस्प चुनावी लड़ाई का वादा करता है, जिसमें राष्ट्रीय और क्षेत्रीय दोनों गतिशीलता भारत के राजनीतिक भविष्य को आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही हैं।

'INDIA' गठबंधन को लेकर शरद पवार ने की बड़ी टिप्पणी, कहा- 'हमें ऐसे नतीजों की उम्मीद नहीं थी'

जहाँ हुई थी 'कन्हैयालाल' की निर्मम हत्या, उस उदयपुर में 32000 वोटों से जीती भाजपा

झारखंड: रोज़गार मंत्री सत्यानंद भोक्ता के बेटे को कोर्ट में मिली नौकरी, प्रतीक्षा सूची में भतीजे का भी नाम

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -