रुपयों के लिए लाइन में लगना देश भक्ति का इम्तिहान

Nov 15 2016 05:24 PM
रुपयों के लिए लाइन में लगना देश भक्ति का इम्तिहान

नई दिल्ली - जबसे सरकार ने 500 और 1000 के नोट बन्द किये हैं तब से विपक्ष पीएम मोदी के इस प्रयास की आलोचना कर रुपया लेने के लिए बैंकों और एटीएम ने बाहर लाइन में खड़े लोगों पर सवाल खड़े कर रहा है. विपक्षी पार्टियों के इस रुख पर बीजेपी के राष्‍ट्रीय महासचिव राम माधव ने निशाना साधा है.

बता दें कि देश भर में पैसे निकालने के लिए बैंकों के बाहर लोगों की भारी भीड़ उमड़ने के बाद बीजेपी नेता राम माधव ने मंगलवार को ट्वीट कर कहा कि मुश्किल वक्त में यह देशभक्ति का इम्तिहान है. राम माधव ने ट्वीट में लिखा- 'इन दिनों हम यह सब (लंबी-लंबी लाइनें) बहुत देख रहे हैं, यह देशभक्ति का इम्तिहान है, वरना सामान्य दिनों में तो हर कोई देशभक्त बनता है.

इसी संदर्भ में राम माधव ने एक टीवी चैनल के वीडियो को भी एक कमेंट के साथ रिट्वीट कर लिखा- 'देशभक्तों से मिलना चाहते हैं तो इसे देखें. ज्ञात है कि 8 नवम्बर को मोदी सरकार ने 500 और 1000 रुपये के नोट बंद करने की घोषणा की थी. इसके बाद अपने भाषण में पीएम मोदी ने लोगों से यह अपील की थी कि वह उन्हें 50 दिन दें, उसके बाद यह परेशानी दूर हो जाएगी.

इसके पूर्व भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव राम माधव ने बीते दिनों सरकार के नोटबंदी के कदम पर माकपा और केरल की एलडीएफ सरकार के रुख पर सवाल उठाते हुए पूछा था कि क्या वे गरीबों के साथ खड़े हैं या कालाधन या जाली नोट रखने वालों के साथ हैं जो लोग राजनीति में और टिकट बंटवारे में कालेधन का इस्तेमाल करते थे, उनका दुखी होना स्वाभाविक है.

उरी हमले को लेकर फिर राम माधव ने साधा पाक पर निशाना