MP नर्सिंग कॉलेज घोटाले में ध्वस्त हुआ रिश्वतखोरी का बड़ा रैकेट, CBI अफसर से लेकर नर्सिंग कॉलेजों के चेयरमैन तक हुए गिरफ्तार
MP नर्सिंग कॉलेज घोटाले में ध्वस्त हुआ रिश्वतखोरी का बड़ा रैकेट, CBI अफसर से लेकर नर्सिंग कॉलेजों के चेयरमैन तक हुए गिरफ्तार
Share:

भोपाल: मध्य प्रदेश में एक बड़े रिश्वतखोरी रैकेट को ध्वस्त करते हुए केंद्रीय जांच ब्यूरो मतलब CBI ने भ्रष्टाचार के इल्जाम में अपनी एजेंसी के ही एक इंस्पेक्टर एवं प्रदेश के दो नर्सिंग कॉलेजों के चेयरमैन समेत 13 लोगों को गिरफ्तार किया है। CBI की कार्रवाई तब आरम्भ हुई जब एजेंसी की इंटरनल विजिलेंस को इनपुट प्राप्त हुआ कि उसके अधिकारी निरीक्षण के चलते भ्रष्टाचार में सम्मिलित हैं। 

मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय के आदेश पर राज्यव्यापी जांच करने के लिए CBI ने टीमों का गठन किया था जिससे यह पता लगाया जा सके कि कॉलेज बुनियादी फैसिलिटीज एवं फैकल्टी के संबंध में नर्सिंग कॉलेजों के लिए तय मानदंडों और मानकों का पालन कर रहे हैं या नहीं। एक अफसर ने बताया कि CBI इंस्पेक्टर राहुल राज को मलय कॉलेज ऑफ नर्सिंग के अध्यक्ष अनिल भास्करन एवं उनकी पत्नी सुमा अनिल से 10 लाख रुपये की अवैध रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों पकड़ा गया। दंपत्ति को भी गिरफ्तार कर लिया गया है। इसके अतिरिक्त मध्य प्रदेश पुलिस के जवान सुशील कुमार मजोका को भी CBI ने गिरफ्त में ले लिया है। मजोका वर्तमान में CBI के साथ अटैच हैं।  

CBI ने इंदौर स्थित आरडी मेमोरियल कॉलेज ऑफ नर्सिंग एंड फार्मेसी के अध्यक्ष रवि भदौरिया, ग्वालियर स्थित भास्कर कॉलेज ऑफ नर्सिंग के निदेशक जुगल किशोर शर्मा, भोपाल स्थित भाभा विश्वविद्यालय की प्रिंसिपल जालपना अधिकारी एवं इंदौर के प्रत्यांश कॉलेज ऑफ नर्सिंग और पैरामेडिकल के ओम गोस्वामी को भी गिरफ्तार किया है। केंद्रीय एजेंसी ने एक बयान में कहा कि जांच करने के लिए उच्च न्यायालय के आदेशों का पालन करते हुए CBI ने 7 कोर टीमों एवं 3-4 सहायता टीमें बनाई थीं, जिसमें एजेंसी के अफसर, राज्य में नर्सिंग कॉलेजों की ओर से नामित अधिकारी एवं पटवारी सम्मिलित थे। इन्हीं में से एक टीम के अफसर राहुल राज सहित सहायक टीम के एक अधिकारी भ्रष्ट गतिविधियों में लिप्त पाए गए।

CBI के एक प्रवक्ता ने कहा, यह देखा गया कि एजेंसी के अफसर रिश्वत के बदले में पक्षतापूर्ण रिपोर्ट दे रहे थे। इसको लेकर CBI की आंतरिक सतर्कता तुरंत हरकत में आई एवं राहुल राज, तीन अन्य CBI अफसरों एवं दलालों समेत 23 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया। गिरफ्तारी के पश्चात् भोपाल, इंदौर, रतलाम एवं जयपुर में 31 जगहों पर तलाशी ली गई, जहां 2।33 करोड़ रुपये से ज्यादा नकदी, चार सोने की छड़ें, 36 डिजिटल उपकरण एवं 150 से ज्यादा आपत्तिजनक दस्तावेज जब्त किए गए। इस कार्रवाई में अब तक CBI के राहुल राज सहित 13 अपराधियों को गिरफ्तार किया गया है, जिनमें CBI से जुड़े मध्य प्रदेश पुलिस के एक इंस्पेक्टर सुशील कुमार मजोका, दलाल ओम गोस्वामी, रवि भदोरिया एवं जुगल किशोर और तीन महिलाएं सम्मिलित हैं। अन्य गिरफ्तार अपराधियों में सचिन जैन, राधा रमण शर्मा, पूर्व सीईओ पटेल मोटर्स, इंदौर, मोहम्मद तनवीर खान, प्रीति तिलकवार एवं वेद शर्मा सम्मिलित हैं। CBI ने कहा कि गिरफ्तार किए गए सभी अपराधियों को 29 मई तक CBI की गिरफ्त में भेज दिया गया है। एजेंसी ने दोषी अफसरों के खिलाफ प्रशासनिक कार्रवाई भी आरम्भ कर दी है।  

बिहार को स्पेशल स्टेटस देने के सवाल पर निर्मला सीतारमण ने दिया ये बड़ा बयान

'आज सपा के लड़के जरा गलती करके दिखाएं, योगी सरकार उनका वो हाल करेगी...', बनारस में बोले PM मोदी

'सपा-कांग्रेस में बसती है औरंगजेब की आत्मा', विपक्षियों पर जमकर बरसे CM योगी

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -