भारतीय लुक के कारण मुझे मोदी के रुस यात्रा के दौरान परफॉर्म नही करने दिया गया

Jan 05 2016 03:59 PM
भारतीय लुक के कारण मुझे मोदी के रुस यात्रा के दौरान परफॉर्म नही करने दिया गया

24 दिसंबर 2015 को भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रुस यात्रा पर गए थे। जहां सुरक्षा से संबंधित कई मसलों पर दोनों देशों के बीच सहमति बनी थी। भारतीय पीएम ने जब मंच का भार संभाला तो उन्होने एक रुसी पॉप सिंगर द्वारा गणेश स्तुति और सरस्वती वंदना गाए जाने की जमकर तारीफ की। इस दौरान भारतीय दूतावास ने भी फ्रेंड्स ऑफ इंडिया नामक कार्यक्रम रखा।

यह प्रोग्राम भारतीय दूतावास के नेहरु कल्चरल सेंटर में था। जहां कई कलाकारों ने लोकनृत्य किया। इसके लिए कई हफ्तों से प्रैक्टिस किए गए। इसके बाद फाइनल रिहर्सल के बाद भारतीय राजदूत पीएस राघवन प्रस्तुति देने वाले कलाकारों का चयन करने वाले थे। अब इस कार्यक्रम से संबंधित एक मामला प्रकाश में आया है। रुसी नागरिक स्वेतलाना तुलसी इंडियन क्लासिक्ल डांसर है। इन्होने रुस में कई अवसरों पर अपनी प्रतिभा का जौहर दिखाया है।

अब इनका आरोप है कि मोदी के कार्यक्रम में उन्हें अपनी प्रस्तुति देने का मौका नही दिया गया क्यों कि वो भारतीय दिखती थी। तुलसी ने कहा कि राघवन ने मुझसे कहा कि इस प्रोग्राम के लिए केवल रुसी मूल के लोगों को ही परफॉर्म करने का निर्देश है। आप रुसी महिला की तरह नही दिखती है। तुलसी का दावा है कि इस मामले से संबंधित सभी सबूत उनके पास है।

रुस और यूक्रेन के रिएलिटी शो में भी तुलसी ने क्लासिक्ल डांस किया था। अब तुलसी ने इसे अप्रत्याशित मामला बताते हुए नस्ली भेदभाव करार दिया है। उन्होने कहा कि हम इससे बेहद दुखी है। नस्ली भेदभाव मानवता के खिलाफ जघन्य अपराध है। उनका कहना है कि इस मामले में भारतीय अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए। तुलसी ने इस मामले में ऑनलाइन याचिका दायर की है।