सही समय पर फूलों का इस्तेमाल समस्याओं से दिलाता है निजात

Mar 13 2018 07:15 PM
सही समय पर फूलों का इस्तेमाल समस्याओं से दिलाता है निजात

हर प्रकार की पूजा में फूलों का बहुत महत्व होता है, यदि आप घर के आस-पास आप फूल लगाते है, तो आपका घर नकारात्मक ऊर्जा के प्रभाव से मुक्त रहता है, क्योंकि फूल व्यक्ति के जीवन में सकारात्मकता का संचार करते है, माना जाता है कि पूजा में फूलों का उपयोग व्यक्ति की पूजा को पूर्ण करता है. तो आइये जानते है कुछ मुख्य फूलों का महत्व जो आपकी पूजा को सफल बनाते है.

गेंदे का फूल – हर जगह पर सबसे अधिक गेंदे के फूलों का उपयोग किया जाता है, धार्मिक दृष्टि से गेंदे के फूल को बहुत महत्वपूर्ण माना गया है, जिसमे पीले रंग का गेंदा अधिक उपयोगी है. गेंदे के फूल को एक नहीं बल्कि कई फूलों का गुच्छा कहा जाता है, इस फूल का संबंध बृहस्पति ग्रह से माना गया है, इस फूल का उपयोग व्यक्ति में ज्ञान व विद्या की उत्पत्ति करता है, देखने में यह फूल बहुत ही आकर्षक होता है. यदि भगवान विष्णु को प्रतिदिन नियमित रूप से पीले गेंदे के फूलों की माला अर्पित की जाये तो इससे व्यक्ति की संतान से सम्बंधित सभी समस्याओं का अंत होता है.

गुलाब का फूल – ज्योतिष शास्त्र के अनुसार गुलाब का फूल व्यक्ति के रिश्तों में प्रेम कि उत्पत्ति करता है, इसके उपयोग से व्यक्ति अपने जीवन कि धन से सम्बंधित समस्याओं को भी दूर कर सकता है. इस फूल को एक चमत्कारी फूल माना जाता है, जिसका प्रभाव व्यक्ति के रिश्तों पर पड़ता है. यदि आप नियमित रूप से माता लक्ष्मी को गुलाब का फूल अर्पित करते है, तो इससे आपके जीवन में धन का आभाव दूर होता है.

कमल का फूल – इस फूल को सभी देवी व देवताओं का सबसे प्रिय फूल माना जाता है, जो व्यक्ति की बहुत सी इच्छाओं को पूर्ण कर सकता है. आध्यात्मिक दृष्टि से यह बहुत ही पवित्र व दैवीय फूल है, जिसमे सफ़ेद रंग का कमल सबसे शुद्ध व उर्जावान होता है. यदि कोई व्यक्ति नियमित रूप से 27 दिनों तक माता लक्ष्मी को कमल का फूल अर्पित करता है, तो उसे राजसी सुख की प्राप्ति होती है व एकादशी को यह फूल भगवान कृष्ण को अर्पित करने से व्यक्ति को संतान सुख की प्राप्ति हो.

शनि पीड़ा से मुक्ति प्रदान करते है शनिदेव के यह प्रसिध्द मंदिर

भारत में मौजूद एक ऐसा गांव जहां नहीं है हनुमान जी का मंदिर

मित्रता की मिसाल पेश करते है भगवान कृष्ण के यह उदाहरण

भगवान शिव कैसे बन गए नीलकंठ जानिये इससे जुड़ी रोचक कथा

?