विश्व शाकाहारी दिवस आज, जानिए इसका मकसद और इतिहास

नई दिल्ली: आज पूरी दुनिया में वर्ल्ड वैगन डे (World Vegan Day) मनाया जा रहा है. 1 नवंबर को प्रति वर्ष विश्व शाकाहारी दिवस के रुप में मनाया जाता है. विगन की डाइट बीते कुछ सालों से ही लोगों की अच्छी-खासी पंसद बन गई है. काफी सारे मशहूर सितारों ने भी खुद को पूरी तरह से वीगन डाइट वाला बना लिया है. हालांकि कुछ लोग इस दौरान वीगन डाइट और वेजिटेरियन के बीच बेहद कंफ्यूज रहते हैं, तो आपको बता दें कि वीगन वाले मीट, अंडा के साथ ही डेयरी की चीजों को भी अपने भोजन में प्रयोग नहीं करते हैं. ऐसे में वीगन डाइट के फायदों के बारे में लोगों को जागरुक करने के लिए प्रति वर्ष 01 नवंबर को वर्ल्ड वीगन डे सेलिब्रेट किया जाता है. 

ये दिन इसलिए मनाया जाता है, ताकि लोग शाकादारी खाने के प्रति अपनी रूचि बढ़ाएं और साथ ही इससे पर्यावरण को भी काफी लाभ होता है. पर्यावरण को बचाने के लिए इस दिन लोगों को जागरूक किया जाता है. साथ लोगों की शाकाहारी खाने के प्रति रुचि को बढ़ाना भी इस दिन को मनाने का मुख्य उद्देश्य है. यूके वेगन सोसाइटी ने पहली बार 1 नवंबर, 1994 को वर्ल्ड वेगन डे मनाया था. 1944 में ही वेगन सोसायटी का गठन भी हुआ था. शाकाहारी दिवस की 50 वीं वर्षगांठ पर वेगन सोसायटी के अध्यक्ष ने इसे यादगार बनाने और लोगों को शाकाहारी आहार के लिए प्रेरित करने के लिए हर साल वेगन दिवस मानाने का ऐलान किया.

इसका मतलब स्पष्ट है कि पर्यावरण को बचाने के लिए और लोगों को इसके प्रति जागरुक करने के लिए ये दिन मनाया जाता है. शाकाहारी भोजन करने से आप कई सारी बीमारियों से ना केवल अपने आप को दूर करते हैं, बल्कि आप एक तरह से पर्यावरण की सुरक्षा भी कर रहे हैं. मांसाहारी होने से कई किस्म की बीमारियां पैदा हो सकती है. जबकि शाकाहारी लाइफस्टाइल से कैंसर जैसी जटिल बीमारियों को भी दूर किया जा सकता है.

‘सर रोज हमारी बेइज्जती हो रही है’, SC कमीशन के उपाध्यक्ष से समीर वानखेड़े ने की शिकायत

महाराष्ट्र के इस जिले में लगे भूकंप के झटके

एक फोन कॉल ने बदल दी थी टिम कुक की जिंदगी

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -