Share:
घमौरियों कर रही है परेशान? तो ऐसे पाएं छुटकारा
घमौरियों कर रही है परेशान? तो ऐसे पाएं छुटकारा

हीट रैश, जिसे घमौरियां या मिलिएरिया भी कहा जाता है, एक सामान्य त्वचा संबंधी स्थिति है जो वयस्कों सहित सभी उम्र के लोगों को प्रभावित करती है। यह तब होता है जब पसीने की नलिकाएं अवरुद्ध हो जाती हैं, जिससे त्वचा की सतह के नीचे पसीना जमा हो जाता है। इस रुकावट के परिणामस्वरूप कई प्रकार के लक्षण हो सकते हैं, जिनमें लालिमा, खुजली और छोटे, तरल पदार्थ से भरे छाले शामिल हैं। इस लेख में आपको बताएंगे वयस्कों में घमौरियों के कारणों और इसकी रोकथाम और उपचार के लिए प्रभावी तरीकों के बारे में...

1. वयस्कों में घमौरियों के कारण
गर्म और आर्द्र मौसम:

वयस्कों में घमौरियों के प्राथमिक कारणों में से एक गर्म और आर्द्र मौसम का संपर्क है। जब शरीर ज़्यादा गरम हो जाता है, तो यह प्राकृतिक शीतलन तंत्र के रूप में पसीना पैदा करता है। हालाँकि, अत्यधिक गर्म और आर्द्र परिस्थितियों में, पसीने की नलिकाएं अभिभूत हो सकती हैं और अवरुद्ध हो सकती हैं, जिससे घमौरियां विकसित हो सकती हैं।

चुस्त कपड़े:
टाइट-फिटिंग कपड़े पहनना, खासकर गर्म मौसम के दौरान, घमौरियों के विकास में योगदान कर सकता है। तंग कपड़े पसीने को त्वचा में फँसा सकते हैं, जिससे पसीने का वाष्पीकरण मुश्किल हो जाता है, और पसीने की नलिका में रुकावट की संभावना बढ़ जाती है।

शारीरिक गतिविधि:
गर्म मौसम में दौड़ने या व्यायाम करने जैसी कठोर शारीरिक गतिविधियों में संलग्न होने से पसीना बढ़ सकता है। यह अत्यधिक पसीना वयस्कों में हीट रैश के खतरे को बढ़ा सकता है, खासकर अगर कपड़ों का चयन उचित वेंटिलेशन की अनुमति नहीं देता है।

भारी लोशन और क्रीम:
त्वचा पर भारी लोशन या क्रीम का उपयोग पसीने की नलिकाओं को अवरुद्ध कर सकता है, जिससे पसीना ठीक से बाहर नहीं निकल पाता है। यह विशेष रूप से प्रासंगिक है यदि इन उत्पादों को घर्षण और पसीना जमा होने की संभावना वाले क्षेत्रों में लागू किया जाता है, जैसे कि आंतरिक जांघों या स्तनों के नीचे।

गतिहीनता:
जो वयस्क बिस्तर पर हैं या जिनकी गतिशीलता सीमित है, उन्हें भी घमौरियां विकसित होने का खतरा हो सकता है। बिस्तर या कपड़ों के लंबे समय तक संपर्क में रहने से पसीना फंस सकता है और बाद में पसीने की नलिकाओं में रुकावट हो सकती है।

2. हीट रैश के प्रकार
हीट रैश अलग-अलग रूपों में प्रकट हो सकते हैं, प्रत्येक के अपने लक्षण और विशेषताएं होती हैं। घमौरियों के तीन मुख्य प्रकार हैं:

मिलिरिया क्रिस्टलीना:
यह घमौरियों का सबसे हल्का रूप है, जिसमें त्वचा की सतह पर छोटे, स्पष्ट, तरल पदार्थ से भरे छाले दिखाई देते हैं। ये छाले दर्दनाक नहीं होते और आसानी से फूट जाते हैं। मिलिरिया क्रिस्टलीना अक्सर नवजात शिशुओं में देखा जाता है लेकिन गर्म और आर्द्र परिस्थितियों में वयस्कों को प्रभावित कर सकता है।

मिलिरिया रूबरा:
घमौरियों के रूप में भी जाना जाता है, मिलिएरिया रूब्रा लाल धक्कों के रूप में प्रकट होता है और चुभन या चुभने जैसी अनुभूति पैदा कर सकता है, इसलिए इसे "घमौरी" नाम दिया गया है। इन लाल धक्कों में खुजली हो सकती है और उन क्षेत्रों में विकसित होने की अधिक संभावना है जहां पसीना और घर्षण आम है, जैसे गर्दन, बगल और कमर।

मिलिरिया प्रोफुंडा:
मिलिरिया प्रोफुंडा घमौरियों का सबसे कम सामान्य रूप है और आमतौर पर उन वयस्कों को प्रभावित करता है जिन्होंने घमौरियों के बार-बार होने वाले एपिसोड का अनुभव किया है। यह गहरे, मांस के रंग के घावों की विशेषता है जो पसीने की नलिकाओं के भीतर विकसित होते हैं। ये घाव अक्सर दर्द रहित होते हैं लेकिन इससे अधिक गंभीर असुविधा और खुजली हो सकती है।

3. वयस्कों में घमौरियों की रोकथाम
वयस्कों में घमौरियों की रोकथाम में पसीने की नलिका में रुकावट और अधिक गर्मी के जोखिम को कम करने के लिए सक्रिय उपाय करना शामिल है। घमौरियों से बचाव के लिए यहां कुछ प्रभावी रणनीतियाँ दी गई हैं:

शांत रहना:
गर्म और आर्द्र परिस्थितियों में लंबे समय तक रहने से बचें, खासकर दिन के सबसे गर्म हिस्सों में। आवश्यकता पड़ने पर छाया या वातानुकूलित वातावरण की तलाश करें।

ढीले, सांस लेने योग्य कपड़े पहनें:
सूती जैसे प्राकृतिक कपड़ों से बने ढीले-ढाले, हल्के कपड़े चुनें। ये सामग्रियां बेहतर वायु परिसंचरण की अनुमति देती हैं और पसीने की नलिका में रुकावट को रोकने में मदद करती हैं।

पंखे और एयर कंडीशनिंग का प्रयोग करें:
इनडोर स्थानों को ठंडा करने के लिए पंखे और एयर कंडीशनिंग का उपयोग करें, और अत्यधिक गर्मी से राहत प्रदान करने के लिए बाहरी सेटिंग्स में पंखे या पोर्टेबल एयर कंडीशनिंग इकाइयों का उपयोग करने पर विचार करें।

हाइड्रेटेड रहना:
भरपूर पानी पीने से शरीर के तापमान को नियंत्रित करने में मदद मिलती है और पसीने को बढ़ावा मिलता है, जो शरीर को ठंडा करने और घमौरियों के खतरे को कम करने में मदद कर सकता है।

नियमित रूप से स्नान करें:
बार-बार नहाने से त्वचा की सतह से पसीना और बैक्टीरिया हटाने में मदद मिल सकती है, जिससे पसीने की नलिका में रुकावट की संभावना कम हो जाती है। त्वचा की जलन से बचने के लिए हल्के, खुशबू रहित साबुन का प्रयोग करें।

भारी मलहम और क्रीम से बचें:
गर्म और आर्द्र मौसम के दौरान, हल्के मॉइस्चराइज़र का चयन करें और भारी लोशन या क्रीम से बचें जो पसीने की नलिकाओं को अवरुद्ध कर सकते हैं।

4. वयस्कों में घमौरियों का उपचार
यदि आप खुद को घमौरियों से पीड़ित पाते हैं, तो लक्षणों को कम करने और उपचार को बढ़ावा देने के लिए आप कई कदम उठा सकते हैं। यहां बताया गया है कि वयस्कों में घमौरियों का इलाज कैसे किया जाए:
प्रभावित क्षेत्र को ठंडा करें: घमौरियों के इलाज में पहला कदम प्रभावित क्षेत्र को ठंडा करना है। ठंडे वातावरण में चले जाएँ, ठंडा स्नान करें या दाने पर ठंडा, गीला कपड़ा लगाएँ। गर्म पानी या बर्फ से बचें, क्योंकि अत्यधिक तापमान स्थिति को खराब कर सकता है।
क्षेत्र को सूखा रखें: ठंडा होने के बाद, प्रभावित क्षेत्र को साफ तौलिये से धीरे से थपथपाकर सुखाएं। त्वचा को रगड़ने से बचें, क्योंकि इससे दाने और अधिक परेशान हो सकते हैं।
ढीले कपड़े: घर्षण को कम करने और दाने के चारों ओर हवा के संचार को बढ़ावा देने के लिए सांस लेने वाले कपड़ों से बने ढीले-ढाले कपड़े पहनें।
कैलामाइन लोशन या ओटमील स्नान: कैलामाइन लोशन लगाने या ओटमील स्नान करने से खुजली को शांत करने और घमौरियों से जुड़ी सूजन को कम करने में मदद मिल सकती है।
ओवर-द-काउंटर क्रीम: बिना प्रिस्क्रिप्शन वाली हाइड्रोकार्टिसोन क्रीम खुजली और सूजन से राहत दिला सकती हैं। हालाँकि, यदि दाने बने रहते हैं या बिगड़ जाते हैं, तो लेबल पर दिए गए निर्देशों का पालन करना और स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से परामर्श करना आवश्यक है।
हाइड्रेटेड रहें: शरीर के तापमान को नियंत्रित करने और शरीर के प्राकृतिक शीतलन तंत्र का समर्थन करने के लिए खूब पानी पीना जारी रखें।
तंग कपड़ों से बचें: तंग या प्रतिबंधात्मक कपड़े पहनने से बचें जो दाने को बढ़ा सकते हैं।
सामयिक एंटीबायोटिक्स: ऐसे मामलों में जहां घमौरियां संक्रमित हो गई हैं, स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता द्वारा सामयिक एंटीबायोटिक्स निर्धारित की जा सकती हैं।
चिकित्सकीय सहायता लें: यदि घमौरियों में कुछ दिनों के भीतर सुधार नहीं होता है, या यदि यह बदतर हो जाती है, दर्दनाक हो जाती है, या संक्रमण के लक्षण (जैसे मवाद या बढ़ी हुई लालिमा) दिखाई देती है, तो उचित मूल्यांकन और उपचार के लिए स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से परामर्श लें।
पुनरावृत्ति को रोकें: एक बार दाने ठीक हो जाएं, तो भविष्य में होने वाली घटनाओं से बचने के लिए निवारक उपाय करें। कपड़ों की पसंद का ध्यान रखें, उचित स्वच्छता बनाए रखें और गर्म मौसम के दौरान ठंडे रहें।

वयस्कों में घमौरियां एक आम और असुविधाजनक स्थिति है जिसे उचित देखभाल और सावधानियों के साथ आसानी से रोका और इलाज किया जा सकता है। घमौरियों के कारणों और प्रकारों को समझना इसकी घटना के जोखिम को कम करने के लिए सक्रिय कदम उठाने के लिए आवश्यक है। ठंडा रहकर, सांस लेने वाले कपड़े पहनकर और अच्छी स्वच्छता अपनाकर, आप घमौरियों की संभावना को कम कर सकते हैं। ऐसे मामलों में जहां घमौरियां विकसित होती हैं, शीघ्र और उचित उपचार से राहत मिल सकती है और जटिलताओं को रोका जा सकता है। याद रखें कि यदि दाने बने रहते हैं या बिगड़ जाते हैं, तो उचित मूल्यांकन और उपचार योजना के लिए चिकित्सकीय सलाह लेना महत्वपूर्ण है। सही दृष्टिकोण के साथ, आप घमौरियों की परेशानी के बिना गर्मी के महीनों का आनंद ले सकते हैं।

एसिडिटी और डिहाइड्रेशन के लिए रामबाण इलाज है छांछ

शिशु के उल्टी करने कारणों को जानिए

हर सुबह खजूर खाने के 5 अप्रत्याशित फायदे

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -