Share:
शिशु के उल्टी करने कारणों को जानिए
शिशु के उल्टी करने कारणों को जानिए

शिशु की उल्टी माता-पिता के लिए एक चिंता का विषय हो सकती है, जो अक्सर चिंता और बेचैनी का कारण बनती है। हालाँकि, यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि शिशुओं में कभी-कभार उल्टी होना काफी आम है और आमतौर पर यह चिंता का कारण नहीं है। इस लेख में, हम शिशु की उल्टी के विभिन्न कारणों का पता लगाएंगे और आपके बच्चे के लिए अच्छी भोजन की आदतें बनाए रखने के लिए आवश्यक सावधानियां प्रदान करेंगे।

शिशु की उल्टी के सामान्य कारण

शिशुओं में उल्टी कई कारणों से हो सकती है, और इन कारणों को समझना माता-पिता के लिए महत्वपूर्ण है:

1. अधिक भोजन करना

अधिक दूध पिलाना शिशु की उल्टी का एक सामान्य कारण है। शिशुओं का पेट छोटा होता है, और जब वे अपने पेट की क्षमता से अधिक दूध या फार्मूला का सेवन करते हैं, तो इससे उल्टी की समस्या हो सकती है।

2. गैस्ट्रोएसोफेगल रिफ्लक्स (जीईआरडी)

जीईआरडी एक ऐसी स्थिति है जहां पेट की सामग्री वापस अन्नप्रणाली में प्रवाहित होती है। इससे शिशुओं में असुविधा और उल्टी हो सकती है।

3. खाद्य एलर्जी

कुछ शिशुओं को स्तन के दूध, फार्मूला या ठोस खाद्य पदार्थों के कुछ घटकों से एलर्जी हो सकती है। एलर्जी की प्रतिक्रिया उल्टी के रूप में प्रकट हो सकती है।

4. संक्रमण

उल्टी संक्रमण का लक्षण भी हो सकती है, जैसे पेट के वायरस या मूत्र पथ के संक्रमण।

5. दाँत निकलना

दांत निकलने के दौरान, बच्चों की लार अधिक बहने लगती है, जिससे अतिरिक्त लार निगलने और उल्टी की समस्या हो सकती है।

6. आंतों में रुकावट

दुर्लभ मामलों में, आंतों की रुकावट या विकृति उल्टी का कारण बन सकती है और एक स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर द्वारा तुरंत मूल्यांकन किया जाना चाहिए।

भोजन की अच्छी आदतों के लिए सावधानियाँ

उल्टी की संभावना को कम करने के लिए यह सुनिश्चित करना आवश्यक है कि आपके बच्चे का आहार स्वस्थ हो। यहां विचार करने योग्य कुछ सावधानियां दी गई हैं:

1. सीधी स्थिति में भोजन करें

अपने बच्चे को सीधी स्थिति में दूध पिलाने से रिफ्लक्स को कम करने और उल्टी की संभावना को कम करने में मदद मिल सकती है।

2. अपने बच्चे को डकार दिलाएं

प्रत्येक दूध पिलाने के दौरान और बाद में अपने बच्चे को डकार दिलाने से फंसी हुई हवा बाहर निकल सकती है, जिससे उल्टी की संभावना कम हो जाती है।

3. अधिक भोजन करने से बचें

अपने बच्चे के संकेतों पर ध्यान दें और उन्हें बोतल ख़त्म करने के लिए मजबूर करने से बचें। कुछ दूध या फॉर्मूला को बिना खाए छोड़ देना ठीक है।

4. खाद्य एलर्जी का समाधान करें

यदि आपको संदेह है कि आपके बच्चे को खाद्य एलर्जी है, तो उचित आहार योजना पर मार्गदर्शन के लिए बाल रोग विशेषज्ञ से परामर्श लें।

5. जलयोजन

सुनिश्चित करें कि आपका शिशु अच्छी तरह से हाइड्रेटेड रहे, क्योंकि निर्जलीकरण से उल्टी की समस्या बढ़ सकती है।

6. बोतलों और निपल्स को ठीक से स्टरलाइज़ करें

स्वच्छ और बाँझ भोजन वातावरण बनाए रखने से संक्रमण को रोकने में मदद मिलती है जिससे उल्टी हो सकती है।

7. ठोस खाद्य पदार्थों का क्रमिक परिचय

ठोस आहार शुरू करते समय, इसे धीरे-धीरे करें और किसी भी प्रतिकूल प्रतिक्रिया या एलर्जी पर नज़र रखें।

8. किसी बाल रोग विशेषज्ञ से सलाह लें

यदि आपके बच्चे की उल्टी गंभीर है, बार-बार हो रही है, या अन्य संबंधित लक्षणों के साथ है, तो उचित मूल्यांकन के लिए बाल रोग विशेषज्ञ से परामर्श लें।

9. वज़न बढ़ने पर नज़र रखें

यह सुनिश्चित करने के लिए नियमित रूप से अपने बच्चे के वजन बढ़ने की निगरानी करें कि उनका विकास ठीक से हो रहा है और उन्हें आवश्यक पोषण मिल रहा है।

10. अपने पालन-पोषण की प्रवृत्ति पर भरोसा रखें

याद रखें, आप अपने बच्चे को सबसे अच्छे से जानते हैं। अपनी अंतरात्मा पर भरोसा रखें और संदेह होने पर चिकित्सकीय सलाह लें।

जबकि शिशु की उल्टी कष्टकारी हो सकती है, यह आमतौर पर एक अस्थायी और सौम्य समस्या है। इन सावधानियों का पालन करके और अपने बच्चे की ज़रूरतों पर ध्यान देकर, आप स्वस्थ भोजन की आदतों को बढ़ावा देने और उल्टी की संभावना को कम करने में मदद कर सकते हैं। यदि आपको अपने बच्चे के स्वास्थ्य या दूध पिलाने के पैटर्न के बारे में चिंता है तो हमेशा एक स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से परामर्श लें।

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -