Share:
खून की कमी बन सकती है महिलाओं और पुरुष के लिए बड़ी बीमारी का कारण
खून की कमी बन सकती है महिलाओं और पुरुष के लिए बड़ी बीमारी का कारण

खून की कमी से होने वाली बीमारियाँ कई हो सकती हैं। यहां कुछ प्रमुख बीमारियाँ हैं जो खून की कमी के कारण हो सकती हैं:

एनीमिया: एनीमिया एक सामान्य शब्द है जिसे खून की कमी के संकेत के लिए प्रयोग किया जाता है। इसमें शामिल हो सकते हैं विटामिन बी12, फोलिक एसिड या आयरन की कमी के कारण होने वाली बीमारियाँ।

लीवर रोग: कुछ लीवर रोग खून को उचित रूप से साफ़ करने की क्षमता में कमी का कारण बन सकते हैं, जो खून की कमी को प्रभावित कर सकती है।

ईलाज के कारण या अपयश: कई बार खून की कमी किसी उपचार के कारण या अपयश के कारण हो सकती है। यह शामिल हो सकता है रक्तदान, असंगठित दवा का सेवन, विशेष चिकित्सा प्रक्रियाएं या उचित खाद्य सामग्री की अनुपस्थिति के कारण।

खून की बहाव की समस्या: खून की खराब बहाव के कारण भी खून की कमी हो सकती है। इसमें अधिक खून की हानि, खून की गड़बड़ी, बहुत लंबे समय तक बहता रहना या खून की नसों के खराब हो जाने का संकेत हो सकता है।

एनीमिया, खून में हेमोग्लोबिन (एक प्रमुख ऑक्सीजन परिवहन करने वाला प्रोटीन) की कमी के कारण होने वाली एक सामान्य स्वास्थ्य समस्या है। यह एक प्रकार की खून की कमी होती है जिसमें रक्त में शामिल होने वाले लाल रक्त कोशिकाएं (रेड ब्लड सेल्स), हेमोग्लोबिन, और/या रक्त की उत्पादन करने वाले अनुपात की कमी होती है।

एनीमिया के कई प्रकार हो सकते हैं, जिनमें सबसे आम प्रकारों में शामिल हैं:

आयरन अवशेषित एनीमिया: इस प्रकार की एनीमिया में, शरीर आयरन को पर्याप्त मात्रा में अवशोषित नहीं कर पाता है, जिससे रक्त में हेमोग्लोबिन की कमी होती है।

मेगालोब्लास्टिक एनीमिया: इसमें रक्त की कोशिकाओं का संख्यात्मक न्यूनीकरण होता है, जिससे रक्त की कमी होती है।

सिक्लिक एनीमिया: इस प्रकार की एनीमिया में, खून की कोशिकाएं आदिकांत हो जाती हैं, लेकिन उन्हें नियमित रूप से प्रोटीन सामग्री हेमोग्लोबिन के रूप में उत्पन्न करने की क्षमता में कमी होती है।

सिक्लिक एनीमिया: इसमें शरीर ने गलती से खून की कोशिकाओं के विनाश की प्रक्रिया को शुरू कर दिया है, जिससे खून की कमी होती है।

एनीमिया के लक्षण निम्नलिखित हो सकते हैं:

थकान
सांस लेने में दिक्कत
पालिपटेशियों (चक्कर आना) का अनुभव
त्वचा का पीलापन या रंग का पड़ना
हृदय दौड़ना या धड़कन की तेज़ी
चक्कर आना या बेहोशी का अनुभव
नितंबों की दर्द या सूजन

लीवर रोग एक गंभीर स्वास्थ्य समस्या है जिसमें शरीर के लीवर में संक्रमण, विषाक्त पदार्थों का संचय, ऊतकीय क्षति या दूसरी बीमारियों के कारण कमजोरी होती है। लीवर शरीर में कई महत्वपूर्ण कार्यों का संचालन करता है, जैसे कि खाना पचाना, विषाक्त पदार्थों को मेटाना, ग्लूकोज के निर्माण और संचय करना, हार्मोन्स के निर्माण, और रक्त को शुद्ध करना।

लीवर रोग के कुछ प्रमुख प्रकार और उनकी विशेषताएं हैं:

फैटी लीवर: इसमें लीवर में वसा इकट्ठा हो जाता है, जिससे लीवर की कार्यक्षमता प्रभावित होती है। यह आमतौर पर खाद्य संयंत्र की गलत आहार और बदलती जीवनशैली के कारण हो सकता है।

हेपेटाइटिस: हेपेटाइटिस लीवर में संक्रमण के कारण होने वाली साधारण रोग हैं। इसके विभिन्न प्रकार होते हैं, जैसे कि हेपेटाइटिस ए, बी, और सी। इनमें संक्रमण, बाहरी पदार्थों के प्रभाव, या विषाक्त पदार्थों के सेवन के कारण हो सकते हैं।

सिरोसिस: यह लीवर में घावों के निर्माण और उच्चतम स्तर की त्वचा विकार के कारण होता है। यह लंबे समय तक अधिक वसा संकुलित होने, शराब की अधिक सेवन, विषाक्त पदार्थों का सेवन, हेपेटाइटिस इन्फेक्शन और अन्य लीवर समस्याओं के कारण हो सकता है।

लीवर कैंसर: यह लीवर में कैंसर के विकास के कारण होता है। यह आमतौर पर लंबे समय तक हेपेटाइटिस इन्फेक्शन या सिरोसिस के परिणामस्वरूप होता है।

लीवर रोग के लक्षण और उपचार निम्नलिखित हो सकते हैं:

पेट में दर्द या तनाव का अनुभव
पीलिया (त्वचा और आंखों का पीलापन)
उच्चतम स्तर की थकान
वजन कमी
खून की कमी
चक्कर आना या अस्त-व्यस्तता का अनुभव
उलझन में रहना या भूलने की समस्या

ईलाज के कारण या अपयश के कारण होने वाले लीवर रोग के बारे में विस्तार से जानने के लिए, यह महत्वपूर्ण है कि हर व्यक्ति की स्थिति और परिस्थितियाँ अलग हो सकती हैं। हालांकि, नीचे दिए गए कुछ सामान्य कारण और अपयश शामिल हो सकते हैं:

नियमित और स्वस्थ जीवनशैली की कमी: अव्यवस्थित और अस्वस्थ आहार, अधिक तेल और मसालेदार भोजन, अव्यवस्थित निद्रा, बुरी आदतों का सेवन (जैसे शराब और धूम्रपान), अल्प व्यायाम या शारीरिक गतिविधियों की कमी, और अत्यधिक तनाव आदि, लीवर स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकते हैं।

बुरी दवाएं या रसायन: कुछ दवाओं, आयुर्वेदिक औषधियों, हर्बल सप्लीमेंट्स, या अन्य रसायनों का अनुचित उपयोग लीवर के लिए हानिकारक हो सकता है। यदि दवाओं का नियमित उपयोग या खुद से चिकित्सा नहीं की जाती है, तो इससे लीवर रोग होने की संभावना होती है।

संक्रमण: बैक्टीरियल, वायरल या पैराजीवी संक्रमण जैसे आमतौर पर संक्रमण भी लीवर को प्रभावित कर सकते हैं। ये संक्रमण खराब जीवनशैली, अशुद्ध पानी, अन्य रोगजनक पदार्थों के संपर्क में आने या अस्वच्छता की वजह से हो सकते हैं।

गैर-उचित औषधि उपयोग: जब लोग विनम्रता के बिना बिना चिकित्सकीय सलाह के दवाएं लेते हैं, तो यह लीवर के लिए हानिकारक हो सकता है। इसमें अनुचित दवाओं, दवाइयों की अधिक मात्रा या लंबे समय तक के उपयोग, औषधि के उचित नियमित सेवन का पालन न करना, या विषाक्त दवाओं के सेवन के कारण हो सकता है।

खून की बहाव की समस्या विभिन्न कारणों से हो सकती है और इसके कई प्रकार हो सकते हैं। यहां कुछ प्रमुख प्रकार और उनके बारे में विस्तार से जानकारी है:

रक्तस्राव: रक्तस्राव या हीमोरेज (Hemorrhage) एक स्थानिक या आंतरिक रक्तस्राव हो सकता है, जो अप्रत्याशित रक्तों के बहाव का कारण बनता है। यह किसी अपरोक्ष क्षेत्र में दर्द, चोट, घाव, या शरीर की किसी अन्य समस्या के कारण हो सकता है।

नासूरी: नासूरी या रक्तनलिका (Epistaxis) नाक से रक्तस्राव होने को कहते हैं। यह आमतौर पर नाक में सूजन, नकसीर, सूखापन, गर्मी, तापमान में बदलाव, या शरीर के अन्य हार्मोनल परिवर्तन के कारण हो सकता है।

मासिक धर्म: महिलाओं में, मासिक धर्म (माहवारी) के दौरान रक्तस्राव नियमित होता है। हालांकि, कभी-कभी मासिक धर्म के दौरान अधिक रक्तस्राव हो सकता है, जिसे मेनोरेजिया कहा जाता है, और यह अन्य लक्षणों के साथ जारी रहता है या बिना कारण के हो सकता है।

आंत्रद्वार का खुलना: आंत्रद्वार का अपने स्थान से बाहर आने से रक्तस्राव हो सकता है। यह आंत्रद्वार के असामान्य खुलने, घाव, या अन्य प्रकार के चोटों के कारण हो सकता है।

रक्तप्रवाह के रोग: कुछ रक्तप्रवाह संबंधी रोग, जैसे वासकोनस्ट्रिक्शन और वासकोदिलेशन, रक्तस्राव की समस्या पैदा कर सकते हैं। यह शरीर में रक्त के संचार और नियमित दौरान में बदलाव के साथ जुड़े होते हैं।

भारत में निर्मित 7 कफ सिरप को WHO ने ब्लैक लिस्ट में डाला, 300 लोगों की हुई थी मौत!

क्या आपको भी मल त्यागने में होती है परेशानी तो अभी करवाएं जांच नहीं तो हो सकती है ये बीमारी

घर पर इस रेसिपी से बनाएं टेंटी का अचार, चुटकियों में हो जाएगा तैयार

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -