अमित शाह के सिंहस्थ स्नान पर जमकर हो रहा विरोध

उज्जैन : भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने अपने राजनीतिक स्वार्थ को भुनाने के लिए सिंहस्थ 2016 का अवसर तलाश कर ही लिया। दरअसल अमित शाह उत्तरप्रदेश में वर्ष 2017 में होने वाले चुनाव के लिए जानाधार बढ़ाने हेतु उज्जैन के सिंहस्थ 2016 में होने वाले स्नान के दौरान डुबकी लगाऐंगे। अब आप सोच रहे होंगे कि अमित शाह की डुबकी का भाजपा के वोट बैंक से क्या संबंध। बहुत गहरा संबंध हैं। अमित शाह नदी में डुबकी लगाकर भाजपा के लिए नदी से वोट का सोना निकालने का प्रयास करेंगे। 

दरअसल वे 11 मई को होने वाले स्नान कार्यक्रम के दौरान दलितों के साथ स्नान करेंगे। धार्मिक नगरी में आस्था का मेला उमड़ा। शिप्रा के रामघाट पर साधु, संत और शाही स्नान व यज्ञ हवन करने के बीच आस्था, देशभक्ति और सामाजिक समरसता का महाकुंभ है। सिंहस्थ कुंभ में कई बातें पहली बार हो रही हैं।

भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष का दलित साधु - संतों के ही साथ अलग से स्नान और भोज का कार्यक्रम रहेगा। अमित शाह वाल्मिकी धाम से शिप्रा घाट तक शोभायात्रा निकालेंगे। हालांकि इस मामले में कहा गया है कि हैदराबाद केंद्रीय विश्वविद्यालय के रोहित वेमुला द्वारा की जाने वाली आत्महत्या से भाजपा राजनीति में फूंक - फूंककर कदम रख रही है।

जिसके चलते अमित शाह पर आरोप लगा रहे हैं। इस मामले में मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अरूण यादव ने कहा कि दलित वोट को मजबूत करने के लिए ही भाजपा राजीति कर रही है। उन्होंने कहा कि जो आरएसएस और भाजपा दलितों से प्रेम दिखा रही है वही आरक्षण समाप्त करने की बात कर रही है।

दूसरी ओर साधु - संत भी इस मामले में विरोध कर कह रहे हैं कि अमित शाह सिंहस्थ में राजनीति न करें। यदि वे स्नान करने आ रहे हैं तो स्नान करें। उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी 14 अप्रैल को भारत रत्न डाॅ. आंबेडकर के जन्मोत्सव को लेकर महू पहुंचे थे। अब भाजपा अध्यक्ष अमित शाह उप्र चुनाव से पहले दलितों के साथ शिप्रा स्नान और उनके साथ भोजन करने की बात कर रहे हैं।

इस मामले में शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती ने भी एतराज जताया है। उन्होंने कहा कि गोलवलकर की इस पद्धति को अमित शाह कैसे दूर कर सकते हैं इसका क्या कारण है किसने दलितों के शिप्रा में स्नान करने से रोका। किसने आदिवासियों को रोका। 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -