Share:
पेट दर्द और अपच जैसी समस्याओं से निपटने के लिए अपनाएं ये घरेलु नुस्खें, मिलेगी राहत
पेट दर्द और अपच जैसी समस्याओं से निपटने के लिए अपनाएं ये घरेलु नुस्खें, मिलेगी राहत

त्यौहार खुशी और उत्सव लाते हैं, अक्सर भोग-विलास और स्वादिष्ट दावतों के साथ। हालाँकि, इन समारोहों के दौरान अत्यधिक खाने से अपच, पेट दर्द, गैस, एसिडिटी और मतली जैसी विभिन्न पाचन समस्याएं हो सकती हैं। केवल दवाओं पर निर्भर रहने के बजाय, इन असुविधाओं को प्राकृतिक रूप से कम करने के लिए आयुर्वेदिक उपचार के लाभों का पता लगाया जा सकता है।

1. गैस की समस्या से राहत:
पेट में गैस बनना असहज हो सकता है। एक सरल आयुर्वेदिक उपाय में एक गिलास गर्म पानी में 5 ग्राम हींग मिलाकर पीना शामिल है। यह गैस को खत्म करने के लिए सबसे अच्छे आयुर्वेदिक घरेलू उपचारों में से एक माना जाता है।

2. पेट दर्द से राहत:
पेट दर्द के लिए पेपरमिंट ऑयल की दो बूंदें गर्म पानी में मिलाकर पी सकते हैं। पेपरमिंट ऑयल पाचन संबंधी समस्याओं से जुड़ी सूजन, ऐंठन और दर्द को कम करने की क्षमता के लिए जाना जाता है।

3. एसिड रिफ्लक्स से निपटना:
यदि एसिडिटी और एसिड रिफ्लक्स के कारण परेशानी हो रही है, तो पानी में उबाले गए अजवायन का मिश्रण प्रभावी हो सकता है। मिश्रण में एक चुटकी सेंधा नमक मिलाने से एसिड संबंधी समस्याओं से राहत दिलाने में इसकी प्रभावशीलता बढ़ जाती है।

4. खट्टी डकारों से निपटना:
खट्टी डकारें दूर करने के लिए एक चम्मच अजवायन को पानी में तब तक डुबाकर रखें जब तक आधा पानी वाष्पित न हो जाए और फिर इसमें एक चुटकी काला नमक मिलाना फायदेमंद हो सकता है। इस मिश्रण का सेवन करने से खट्टी डकारें और पाचन संबंधी परेशानी कम हो जाती है।

5. नींबू और शहद टॉनिक:
पाचन में सहायता के लिए, एक नींबू के रस और एक चम्मच शहद के साथ गर्म पानी पीने का दैनिक अनुष्ठान अपनाया जा सकता है। यह मिश्रण न केवल पाचन में मदद करता है बल्कि प्रतिरक्षा प्रणाली को भी बढ़ावा देता है।

6. करी पत्ता अमृत:
ताज़ा करी पत्ता अपने पाचन गुणों के लिए जाना जाता है। 20-25 ताजी करी पत्तियों से रस निकालकर इसे एक कप पानी, एक बड़ा चम्मच नींबू का रस और एक बड़ा चम्मच शहद के साथ मिलाकर एक शक्तिशाली अमृत बनता है। इस मिश्रण का सेवन करने से मतली, उल्टी और सूजन से राहत मिल सकती है।

7. सौंफ़ बीज आसव:
पाचन संबंधी समस्याओं के लिए पारंपरिक रूप से सौंफ़ के बीजों का उपयोग किया जाता रहा है। एक कप पानी में एक चम्मच सौंफ के बीज उबालकर और भोजन के बाद उस पानी का सेवन करने से पाचन में सहायता मिलती है और गैस और सूजन से बचाव होता है।

8. अदरक का उपाय:
अदरक एक प्रसिद्ध पाचन सहायक है। भोजन के बाद ताजा अदरक का एक छोटा टुकड़ा चबाने या अदरक की चाय पीने से पाचन प्रक्रिया में मदद मिलती है। अदरक मतली और उल्टी को कम करने में भी प्रभावी है।

9. पाचन शक्ति के लिए त्रिफला:
त्रिफला, तीन फलों (अमलाकी, बिभीतकी और हरीतकी) का एक पारंपरिक आयुर्वेदिक संयोजन, अपने पाचन लाभों के लिए प्रसिद्ध है। सोने से पहले गर्म पानी के साथ त्रिफला चूर्ण का सेवन स्वस्थ पाचन को बढ़ावा देने में मदद करता है।

10. आयुर्वेदिक जीवनशैली युक्तियाँ:
इन उपचारों के अलावा, आयुर्वेदिक जीवनशैली प्रथाओं को शामिल करने से बेहतर पाचन में योगदान मिल सकता है। इसमें ध्यानपूर्वक खाना, नियमित भोजन का समय बनाए रखना, हाइड्रेटेड रहना और योग या पैदल चलने जैसे हल्के व्यायाम शामिल हैं।

जबकि त्यौहार उत्सव और दावत का समय है, पाचन स्वास्थ्य को प्राथमिकता देना महत्वपूर्ण है। आयुर्वेदिक उपचार सामान्य पाचन समस्याओं का प्राकृतिक और प्रभावी समाधान प्रदान करते हैं। इन उपायों को शामिल करके और पाचन स्वास्थ्य के लिए समग्र दृष्टिकोण अपनाकर, कोई भी स्वास्थ्य से समझौता किए बिना उत्सव का आनंद ले सकता है।

दिवाली पर घर में ऐसे बनाएं टेस्टी गुलाब जामुन, नोट कर लें ये रेसिपी और टिप्स

8 महीने की प्रेग्नेंट एक्ट्रेस के अचानक निधन से हर कोई हैरान, गर्भवती महिलाएं ना करें ये गलतियाँ

इस गर्म सूप को पीने से आप सर्दियों में रहेंगे स्वस्थ

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -