पीएम मोदी ने चार सालों में किया चालीस सालों का काम

Sep 14 2018 02:06 PM
पीएम मोदी ने चार सालों में किया चालीस सालों का काम

नई दिल्ली. मोदी सरकार यदि पूर्ववर्ती कांग्रेस की 'रिमोट कंट्रोल' सरकार की ही तरह या उससे भी कमतर प्रर्दशन वाली होती तो आज भी प्रधानमंत्री मोदी देश में सबसे लोकप्रिय नेता नहीं होते और ना ही देश में सकारात्मक माहौल होता. विशेषज्ञों का यह भी मानना है कि हर सरकार पूर्व की सरकार की योजनाओ को आगे बढाती है, इस सरकार में अच्छी योजनाओं का चुनाव कर और उसे सुधार कर आगे बढ़ाने का साथ ही खराब कार्यक्रमों को ख़त्म करने का हुनर अच्छा है.

मोदी सरकार द्वारा बीते तीन सालों में विविध योजनाएं प्रारम्भ की गई हैं जिनमे 'स्वच्छ भारत',  'प्रधानमंत्री जन धन योजना',  मेक इन इंडिया, 'प्रधानमंत्री आवास योजना' (शहरी/ग्रामीण), 'समर्थ भारत',  'आयुष्मान भारत' प्रमुख हैं. विरोधियों का कहना है कि मोदी सरकार की ये सारी योजनाए विफल रहीं है,  लेकिन यह सच नहीं है. मोदी सरकार की यह सम्पूर्ण योजनाएं जमीनी स्तर पर काफी सफल हुई हैं और हो भी रही हैं. 

आधार कार्ड : - आधार योजना के तहत हर नागरिक को एक ख़ास और अलग पहचान संख्या प्रदान की गई, जो कहते हैं कि आधार कार्ड यूपीए सरकार की उपज है यह बात झूठी है इसकी शुरुआत टेक्नोक्रैक नाम की एक कंपनी ने की थी.

जनधन योजना :-  जनधन योजना एक ऐसी योजना है जिसने सबसे ज्यादा ग्रामीणों को पहली बैंकिंग से जोड़ा है. इस योजना की मदद से ग्रामीणों को बहुत मदद मिलती है. बीमा पालिसी आदि का लाभ आज अति पिछड़े ग्रामीण इलाकों में भी पहुंची है जिसके पीछे सिर्फ भारत सरकार की यह बैंकिंग स्कीम है. विशेषज्ञ इसे अच्छा क़दम बताते हैं वहीं विरोधी आंकड़े गिनाते फिर रहे हैं.

जीएसटी :- यानी 'गुड्स एंड सर्विस टैक्स' भी मोदी सरकार की एक बड़ी उपलब्धि है. विपक्ष कितना भी विरोध कर ले लेकिन सच यही है कि जिन लोगों को निशाने पर लेकर विरोधियों द्वारा निशाना साधा जा रहा है, उन्हें इससे फायदा ही पहुंचा है. जीएसटी का सीधा लाभ छोटे व्यापारियों से लेकर ईमानदार बड़े उद्योगपति सब को हो रहा है. इस कार्यक्रम के लागू होते ही कर संग्रहण में बढ़ोत्तरी के साथ इस प्रक्रिया में पारदर्शिता भी बढ़ी है.

एफडीआई :-  एफडीआई के मामले पिछली सरकार से इस साल का आंकड़ा कहीं आगे है, जो मोदी की विदेश यात्राओं का विरोध किया करते थे आज भारत की वैश्विक ताक़त और सम्बन्ध के साथ ही विदेशी निवेश को देख कर उन्हें भी हो सकता है कि यह आभास होता हो कि इस सरकार में देश के विकास और विश्व राजनीति में भारत की पैठ दमदार करने की बेहतर क़ाबिलियत है

आवास योजना :- आज़ादी के सत्तर से भी अधिक साल बीत जाने के बाद भी  देश के शहरी एवं ग्रामीण दोनों इलाको में कुछ ऐसे लोग थे जिनके पास खुद का घर/आवास नहीं था इस सरकार ने आवास योजना शुरू करके उन गरीबो को पक्के मकान प्रदान कर देश की समृद्धि के साथ गरीबों की ज़िन्दगी में खुशहाली लायी, यह पुरानी समस्या थी जिसका निदान पछली सरकार भी कर सकती थी.

स्वच्छ भारत अभियान :- स्वच्छता ही सेवा के भाव से महात्मा गाँधी के सपनो को साकार करने एवं देश को स्वच्छ करने के उद्देश्य से शुरू किया गया कार्यक्रम मिशन बन गया. शैचालय निर्माण सर्वाधिक होने एवं स्वच्छता से बीमारियों में कमी आई हैं. विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा कि भारत में इस मिशन से प्रदूषण से होने वाली बीमारियों और उससे होने वाली मौत में भरी गिरावट हुई है.

खबरें और भी​
'भक्त' नहीं जानते होंगे 'मिस्टर 56' के ये 5 महाझूठ !

जन्मदिन विशेष: राष्ट्रीय स्वयं सेवक से पीएम मोदी तक का सफर

पीएम मोदी के जन्मदिन पर 1221 लोगों को अनोखा तोहफा देगी यह बेकरी, वर्ल्ड रिकॉर्ड भी बनेगा

?