7.6 करोड़ लोगों को नहीं मिलता पीने योग्य जल

कोच्चि: यूं तो हर दिन मिनरल वाॅटर के एडवर्टाइजमेंट और आरओ के विक्रय प्रतिनिधि देश के विभिन्न शहरों में लोगों के बीच इसका प्रचार करते हैं। मगर इसके बाद भी यह जानकारी सामने आई है कि करीब 7.6 करोड़ लोग पीने योग्य जल प्राप्त नहीं कर पाते हैं। हालात ये है कि अनुचित जल प्रबंधन के चलते लोगों को दूषित पानी पीना पड़ता है। कुछ लोग ऐसे हैं जो पानी छानकर या उबालकर अपना काम चलाते हैं। 

हाल ही में वाट-एट-व्हाट काॅस्ट को लेकर वाटरएड एजेंसी ने अपनी रिपोर्ट जारी की हों, यह एजेंसी अंतर्राष्ट्रीय चैरिटी संस्था बताई गई है। जिसमें साफ पानी, साफ-सफाई आदि पर चर्चा की जाती है, जिसमें भारत के बाद इस तरह की स्थिति के लिए चीन को दूसरे और नाइजीरिया को तीसरे स्थान पर रखा गया। 

इस रिपोर्ट में भारत को 10 देशों की सूची में सबसे उपर रखा गया। सबसे अधिक तादाद में लोगों तक पेयजल की आपूर्तिं नहीं होने वाले देशों की इस सूची में भारत के शामिल होने पर विशेषज्ञों का कहना रहा कि इस दिशा में गंभीर चिंतन करने की आवश्यकता है।

इस सूची में भारत के बाद उसके पड़ोसी देश चीन का स्थान है। हालांकि इस सूची में पाकिस्तान का 10 वां स्थान है।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -