आंधी-बारिश और वज्रपात से 33 लोगों की मौत, सीएम नितीश ने किया 4-4 लाख मुआवज़े का ऐलान

पटना: बिहार में प्रचंड गर्मी के बाद आए आंधी-तूफान ने राहत से अधिक लोगों की मुश्किलें बढ़ाने का काम किया है। कुछ घंटों की बारिश और आंधी के कारण राज्य के 16 जिलों में 33 लोगों की मौत हो गई है। इन सभी की मौत आकाशीय बिजली गिरने के चलते हुई है। सीएम नीतीश कुमार की ओर से मृतकों के आश्रितों को तत्काल 4-4 लाख रुपये की आर्थिक मदद देने का ऐलान कर दिया गया है। नीतीश कुमार ने ट्वीट करते हुए लिखा है कि 'राज्य के 16 जिलों में आंधी एवं वज्रपात से 33 लोगों की मृत्यु दुःखद। मृतकों के आश्रितों को तत्काल 4-4 लाख रु० अनुग्रह अनुदान देने तथा आंधी एवं वज्रपात से हुई गृह क्षति एवं फसल क्षति का आकलन कर प्रभावित परिवारों को जल्द से जल्द सहायता राशि उपलब्ध कराने का निर्देश भी दिया गया। ' 

अगले ट्वीट में नितीश कुमार ने लिखा कि 'लोगों से अपील है कि खराब मौसम में पूरी सतर्कता बरतें। वज्रपात से बचाव के लिए आपदा प्रबंधन विभाग द्वारा समय-समय पर जारी किए गए सुझावों का अनुपालन करें। खराब मौसम में घर में रहें और सुरक्षित रहें।' जानकारी के अनुसार, बिहार का भागलपुर इलाका इस आंधी-तूफान के कारण सर्वाधिक प्रभावित रहा है। यहां पर सात लोगों ने आकाशीय बिजली गिरने के चलते जान गंवाई है। मुजफ्फरपुर का आंकड़ा भी 6 पहुंच चुका है। गुरुवार दोपहर को बिहार में तेज बारिश और आंधी देखने को मिली थी। तब जगह-जगह पेड़ गिर गए थे और घंटों तक बिजली बाधित रही थी।

उसके बाद जानकारी मिली थी कि कई जिलों में आकाशीय बिजली गिरने के चलते कई लोगों ने अपनी जान गंवा दी है। शुरुआत में कोई भी आंकड़ा दिया नहीं गया था, जिस कारण कोई स्पष्टता नहीं थी। मगर अब सीएम नीतीश कुमार ने खुद बता दिया है कि इस खराब मौसम ने 33 लोगों की जान ले ली है। किसानों की फसल को भी भारी नुकसान होने का अंदेशा जताया गया है।

एक सप्ताह की राष्ट्रीय यात्रा के लिए केसीआर दिल्ली में

ज्ञानवापी केस की सुनवाई जिला जज करेंगे, सील रहेगा शिवलिंग का एरिया..., सुप्रीम कोर्ट का आदेश

विदेशी मुद्रा-डॉलर में एक सप्ताह के लंबे उछाल के बाद गिरावट

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -