उज्जैन में 19 और कोरोना मरीज मिले, अब तक 43 लोगों ने गवाई जान

मध्य प्रदेश की माहाकाल नगरी में कोरोना का कहर तेजी से बढ़ता ही जा रहा है. शुक्रवार काे जारी मेडिकल रिपोर्ट में 19 मरीजों में संक्रमण पाया गया है. संक्रमितों में उज्जैन के 11 और बड़नगर के 8 मरीज शामिल हैं. इसके साथ ही जिले में संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़कर 220 हो गई है. वहीं, इस वायरस से अब तक 43 लोगों की मौत हो गई है. इसी बीच एक राहतभरी खबर यह है कि 62 मरीज कोरोना को हराकर अपने घर लौट चुके हैं. उधर, आरडी गार्डी मेडिकल कॉलेज में जांच सैंपल की क्षमता पूरी हो गई तो बचे सैंपल गुजरात की निजी लैब में भेजने की व्यवस्था भी शुरू हो गई है.

हालांकि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कोरोना रोकथाम की उज्जैन की व्यवस्थाओं पर विशेष ध्यान देने को कहा है. उज्जैन में विशेषज्ञ चिकित्सक लगाए जाने के निर्देश भी दे दिए. इस पर बोले है कि हमें पूरा प्रयास करना होगा कि वहां एक भी संक्रमित की कोरोना से मृत्यु ना हो. आरडी गार्डी मेडिकल कॉलेज के अलावा उज्जैन में ट्रॉमा सेंटर भी शीघ्र कोविड अस्पताल के रूप में शुरू किया जाएं. इसके अलावा इंदौर के अस्पताल में भी 100 बेड उज्जैन के लिए आरक्षित कर दिए गए हैं. कलेक्टर आशीष सिंह ने जानकारी दी कि उज्जैन में जहां एक और गहन सर्वे कार्य किए जाकर कोरोना टेस्ट की संख्या को बढ़ाया है, वहीं अस्पताल में मरीजों के स्वास्थ पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है. मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि कार्य में समाज के सभी वर्गों का सहयोग लिया जाएं.

बता दें की आरडी गार्डी मेडिकल कॉलेज से सात तथा पुलिस ट्रेनिंग सेंटर से तीन मरीज स्वस्थ होकर गुरुवार को घर लौट गए है. इस बारें में उन्होंने कहा- हमने बीमारी नहीं छुपाई तो स्वस्थ हो गए हैं. शहर में कोई व्यक्ति बीमार है तो वह अपनी बीमारी नहीं छुपाए और हॉस्पिटल जाकर जांच करवाए. अपर कलेक्टर सुजान सिंह रावत ने बताया 10 मरीजों की दूसरी रिपोर्ट भी निगेटिव आने पर डिस्चार्ज किया है.

ग्वालियर में कोरोना मरीजों की संख्या 16 पहुंची, प्रशासन ने बढ़ाई सख्ती

एमपी सरकार ने पांच आईपीएस अफसरों के किए तबादले

मुख्यमंत्री ने उद्यमियों व कारोबारियों को दी राहत, श्रम सुधारों को लिए किया ये एलान

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -