प्राकृतिक गैस के दामों में 16 प्रतिशत की कटौती

प्राकृतिक गैस के दामों में 16 प्रतिशत की कटौती

नई दिल्ली : हाल ही में रिज़र्व बैंक के द्वारा रेपो रेट और रिवर्स रेपो रेट में कटौती की गई है. और इस कटौती के कारण ही जहाँ एक तरह होम लोन सस्ता हुआ है वहीँ दूसरी तरह ऑटो लोन के भी सस्ता होने की खबर सामने आई है. इसके साथ ही आपको इस बारे में भी बता दे कि इस दौरान अंतरराष्ट्रीय कीमतों में नरमी का रुख देखने को मिला है और इस बीच ही सरकार के द्वारा प्राकृतिक गैस के दामों में भी 16 प्रतिशत की कटौती की गई है, इसीके साथ यह 4.24 डॉलर प्रति इकाई हो गई है. बताया जा रहा है कि इससे आने वाले समय में बिजली के साथ ही उर्वरक जैसे उत्पादों की उत्पादन लागत भी कम होना है. मामले में बताया यह भी जा रहा है कि ये नई दरें 1 अक्टूबर से लागु की जाना है.

सूत्रों से मिली जानकारी में यह बात सामने आई है कि सरकार के द्वारा खुद से गैस का मूल्य अधिसूचित या तय नहीं किया जाता है, इसे निर्धारित किये जाने को लेकर पिछले साल एक फार्मूले का गठन किया गया था और इसी फार्मूले एक अंतर्गत GVC आधार पर 1 अक्टूबर से गैस का मूल्य भी 4.24 डॉलर प्रति MMBTU होना है.

मामले में यह कहा जा रहा है कि प्राकृतिक गैस के दामो में हुई इस कटौती के कारण तेल एवं प्राकृतिक गैस निगम (ओएनजीसी) और रिलायंस इंडस्ट्रीज जैसे गैस उत्पादकों के राजस्व पर असर होना तय है लेकिन साथ ही बिजली एवं उर्वरक क्षेत्र के उपयोक्ताओं के लिए एक फायदे का सौदा सबित हो सकता है. आपको इस मामले में यह भी बता दे कि गैस मूल्य को तय किये जाने की प्रणाली के अनुसार उत्पादोत गैस मूल्य की हर 6 महीने में समीक्षा की जाना है. और साथ ही आपको इस बारे में भी जानकारी दे दे कि नई दरें 1 अक्टूबर से 31 मार्च तक के लिए लागू की जाना है.