विश्व इतिहास में ना भूलने वाली तारीख बन गई 16 मई

नई दिल्ली : 16 मई, यह दिनांक भारत इतिहास में कभी न भूलने वाली हो गई। जी हां, भाजपा के इतिहास के लिए तो 16 मई जैसे एक बड़े वनवास को समाप्त कर दीपावली जैसी खुशियां लाने वाली रही। इस दिन वर्ष 2014 में सुबह के कुछ 10 बजे होंगे और देशभर के भाजपा कार्यालयों में मिठाईयां मंगवाने का दौर चल पड़ा। कार्यकर्ता उत्साहित हो गए। पार्टी कार्यालयों पर सजावट होने लगी। यही नहीं पटाखे चलाने की तैयारियां भी होने लगी।

क्या आप जानते हैं यह कौन सा दिन था। यह दिन था गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में एनडीए को लोकसभा में बहुमत मिलने का। दोपहर होते होते तक भाजपा ने विभिन्न लोकसभा सीटों पर बढ़त बनाते हुए अपने लिए 282 सीटों को काबिज करने की स्थिति बना ली। इसी के साथ भाजपा को पूर्ण बहुमत मिला।

यह ऐसा समय था जब भाजपा ने अकेले के दम पर सत्ता में चुने जाने के लिए आवश्यक पूर्व बहुमत प्राप्त किया था। हालांकि एनडीए मोदी के नेतृत्व में रहा और एनडीए की सरकार बनाए जाने की घोषणा हो गई। इस मौके पर कांग्रेस क 24 अकबर रोड़ स्थित कार्यालय पर सन्नाटा छा गया। तो भाजपा ने अपनी जोरदार जीत की घोषणा की। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जीत को लेकर ट्वीट किया उन्होंने लिखा भारत की वियज, अच्दे दिन आ गए हैं।

कुछ ही समय बाद एनडीए ने 331 का जादुई आंकड़ा छू लिया। इसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वडोदरा पहुंचे और लोगों को धन्यवाद दिए। मोदी की वाराणसी और वड़ोदरा से जीत हुई थी। उनका वडोदरा में जमकर स्वागत हुआ। इसके बाद जनता की उम्मीद का तो पंख ही लग गए। जनता को लगा जैसे उन्हें नई उम्मीद मिल गई है। जनता को लगा कि अच्छे दिन उनकी जेब में ही रखे गए हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपनी जीत के दौरान उनकी मां से मिले और आशीर्वाद लिया। इसके बाद वे भाजपा ओर संघ नेताओं से भी मिले। सारा मीडिया मोदी के पीछे लगा रहा और देश अपने इस नेता को लेकर जानने के लिए चैनलों पर बने रहे तो वहीं जहां भी मोदी जाते वहां लोग उमड़ गए। 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -