ये है भारत की 10 सबसे बड़ी पवित्र नदियाँ

ये है भारत की 10 सबसे बड़ी पवित्र नदियाँ
Share:

भारत, जो अपनी विविध संस्कृति और समृद्ध परंपराओं के लिए जाना जाता है, को कई पवित्र नदियों का भी आशीर्वाद प्राप्त है जो अत्यधिक आध्यात्मिक महत्व रखती हैं। ये नदियाँ न केवल जीवन का स्रोत हैं बल्कि लोगों की धार्मिक मान्यताओं और रीति-रिवाजों से भी गहराई से जुड़ी हुई हैं। इस लेख में, हम भारत की दस सबसे बड़ी पवित्र नदियों की खोज के लिए यात्रा शुरू करेंगे, जिनमें से प्रत्येक का अपना अनूठा आकर्षण और महत्व है।

गंगा नदी (गंगा)

भारत की पवित्र जीवन रेखा

गंगा, जिसे अक्सर 'गंगा' कहा जाता है, भारत की सभी नदियों में सबसे पवित्र है। हिमालय में गंगोत्री ग्लेशियर से निकलकर यह उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश और पश्चिम बंगाल सहित कई राज्यों से होकर बहती है। गंगा को देवी के रूप में पूजा जाता है और माना जाता है कि इसके जल में स्नान करने वालों की आत्मा शुद्ध हो जाती है।

यमुना नदी

गंगा का एक दिव्य साथी

यमुना नदी भारत में एक और पूजनीय जलस्रोत है, जो कई स्थानों पर गंगा के समानांतर बहती है। यह भगवान कृष्ण से निकटता से जुड़ा हुआ है और हिंदू पौराणिक कथाओं और धार्मिक समारोहों का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है।

सरस्वती नदी

अदृश्य पवित्र धारा

सरस्वती नदी, हालांकि आज सतह पर दिखाई नहीं देती है, ज्ञान और ज्ञान की नदी के रूप में हिंदू पौराणिक कथाओं में एक महत्वपूर्ण स्थान रखती है। ऐसा माना जाता है कि यह भूमिगत बहती है और विभिन्न धार्मिक अनुष्ठानों के दौरान इसकी पूजा की जाती है।

गोदावरी नदी

दक्षिण की गंगा

गोदावरी, जिसे अक्सर दक्षिण की गंगा कहा जाता है, भारत की दूसरी सबसे लंबी नदी है। यह मध्य भारतीय राज्य महाराष्ट्र से निकलती है और तेलंगाना और आंध्र प्रदेश सहित कई राज्यों से होकर बहती है। यह नदी दक्षिण भारतीय संस्कृति और परंपरा का एक अनिवार्य हिस्सा है।

नर्मदा नदी

सबसे शुद्धतम

मध्य प्रदेश से निकलने वाली नर्मदा नदी भारत की सबसे पवित्र नदियों में से एक मानी जाती है। यह अपनी शांत सुंदरता के लिए जाना जाता है और स्थानीय लोगों द्वारा इसे अक्सर 'नर्मदा मैया' (मां नर्मदा) कहा जाता है।

ब्रह्मपुत्र नदी

पूर्वोत्तर की ताकतवर नदी

भारत के पूर्वोत्तर राज्यों से होकर बहने वाली ब्रह्मपुत्र नदी दुनिया की सबसे महत्वपूर्ण नदियों में से एक है। यह असम के लोगों द्वारा पूजनीय है और उनकी संस्कृति और दैनिक जीवन का अभिन्न अंग है।

सिंधु नदी (सिंधु)

सिंधु घाटी सभ्यता के प्राचीन जल

सिंधु नदी, जिसे प्राचीन काल में सिंधु नदी के नाम से जाना जाता था, ने सिंधु घाटी सभ्यता में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। हालाँकि यह अब मुख्य रूप से पाकिस्तान में स्थित है, भारत की पवित्र नदियों की चर्चा करते समय इसके ऐतिहासिक और सांस्कृतिक महत्व को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है।

तुंगभद्रा नदी

इतिहास और अध्यात्म का संगम

कर्नाटक से निकलने वाली तुंगभद्रा नदी ऐतिहासिक विजयनगर साम्राज्य से जुड़ी है। इसका धार्मिक महत्व है और यह आध्यात्मिक शांति चाहने वाले तीर्थयात्रियों के लिए एक लोकप्रिय स्थल है।

कावेरी नदी

दक्षिण भारत की जीवन रेखा

कावेरी, जिसे कावेरी भी कहा जाता है, भारत के दक्षिणी भाग की एक महत्वपूर्ण नदी है। यह कर्नाटक और तमिलनाडु से होकर बहती है, इन राज्यों को जीवनदायी जल प्रदान करती है और दोनों क्षेत्रों में धार्मिक महत्व रखती है।

शिप्रा नदी

उज्जैन का पवित्र जल

मध्य प्रदेश में शिप्रा नदी उज्जैन शहर में आयोजित कुंभ मेले के लिए प्रसिद्ध है। इस भव्य धार्मिक आयोजन के दौरान इस नदी पर श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमड़ती है। भारत की ये दस पवित्र नदियाँ न केवल जीवन को कायम रखती हैं बल्कि इस विविध राष्ट्र की आध्यात्मिकता को भी समृद्ध करती हैं। प्रत्येक नदी की अपनी कहानी, महत्व और उससे जुड़े अनुष्ठान हैं, जो उन्हें भारत की सांस्कृतिक विरासत का अभिन्न अंग बनाते हैं। भारत की पवित्र नदियाँ केवल भौगोलिक इकाईयाँ नहीं हैं, बल्कि पवित्रता और आध्यात्मिकता की दिव्य अभिव्यक्ति के रूप में पूजनीय हैं। वे प्रवाहित होते रहते हैं, भूमि और उसके लोगों का पोषण करते हैं, साथ ही अपने पवित्र जल के माध्यम से अतीत को वर्तमान से जोड़ते हैं।

खाद्य पदार्थ जो बच्चों में एकाग्रता और अति सक्रियता को प्रभावित करते हैं

अपने आहार में फाइबर को शामिल करने के लाभ

29 सरल खाना पकाने की तकनीक हर किसी को पता होना चाहिए

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -