Share:
महज 10 दिन में 1.40 लाख आवेदन, लोगों को भा रही विश्वकर्मा योजना, मिलते हैं ये लाभ
महज 10 दिन में 1.40 लाख आवेदन, लोगों को भा रही विश्वकर्मा योजना, मिलते हैं ये लाभ

नई दिल्ली: केंद्रीय मंत्री नारायण राणे ने खुलासा किया कि हाल ही में लॉन्च की गई पीएम विश्वकर्मा योजना ने अपनी शुरुआत के सिर्फ 10 दिनों के भीतर उल्लेखनीय लोकप्रियता हासिल की है, जिसमें 1.40 लाख से अधिक आवेदन पहले ही प्राप्त हो चुके हैं। एक्स (पूर्व में ट्विटर) पर सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम (MSME) मंत्री ने रेखांकित किया कि यह योजना प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के दूरदर्शी दृष्टिकोण की अभिव्यक्ति है, और इसे मिली जबरदस्त प्रतिक्रिया इसकी शानदार सफलता की पुष्टि करती है।

नारायण राणे ने इस बात पर जोर दिया कि पीएम विश्वकर्मा योजना सामाजिक और आर्थिक रूप से वंचित विश्वकर्मा समुदाय के व्यापक विकास को आगे बढ़ाने में एक महत्वपूर्ण पहल बनने की ओर अग्रसर है। उन्होंने कहा कि इस कार्यक्रम में उनकी लंबे समय से खोई हुई पहचान को पुनर्जीवित करने और पुनः स्थापित करने की क्षमता है, जिसका बेसब्री से इंतजार किया जा रहा है। योजना का एक मुख्य उद्देश्य पारंपरिक कारीगरों और शिल्पकारों की उत्पादन क्षमता को बढ़ाना और उनके उत्पादों को घरेलू और अंतर्राष्ट्रीय दोनों बाजारों में विस्तार की सुविधा प्रदान करना है। यह योजना 18 विभिन्न श्रेणियों के कारीगरों और शिल्पकारों को लाभान्वित करने के लिए डिज़ाइन की गई है, जो उन्हें एक बहुमुखी सहायता प्रणाली प्रदान करती है।

पीएम विश्वकर्मा योजना के तहत, लाभार्थियों को कौशल प्रशिक्षण प्राप्त होगा, जो एक महत्वपूर्ण घटक है जो उनकी शिल्प कौशल और विपणन क्षमता को बढ़ाता है। प्रशिक्षण अवधि के दौरान, उन्हें 500 रुपये का दैनिक वजीफा भी मिलेगा, जो एक महत्वपूर्ण वित्तीय सहायता के रूप में कार्य करता है। इसके अलावा, यह योजना आवश्यक टूल किट की खरीद के लिए 15,000 रुपए तक की सहायता प्रदान करती है, जिससे कारीगरों और शिल्पकारों को अपने संबंधित व्यवसायों के लिए पर्याप्त रूप से खुद को तैयार करने में मदद मिलती है। इसके अतिरिक्त, लाभार्थियों को 3 लाख रुपये तक के संपार्श्विक-मुक्त ऋण तक पहुंच प्राप्त होगी, जो उनके उद्यमों को बढ़ाने और वित्तीय स्थिरता प्राप्त करने में सहायक हो सकता है।

बता दें कि, पीएम विश्वकर्मा योजना को मिली जबरदस्त प्रतिक्रिया भारत में पारंपरिक कलात्मकता और शिल्प कौशल के विकास को बढ़ावा देते हुए विश्वकर्मा समुदाय के उत्थान और सशक्तीकरण की क्षमता को रेखांकित करती है। जैसे-जैसे यह पहल गति पकड़ती जा रही है, यह हाशिए पर रहने वाले समुदायों के समग्र विकास और वैश्विक स्तर पर स्वदेशी कौशल को बढ़ावा देने के लिए प्रधान मंत्री के दृष्टिकोण को साकार करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने का वादा करती है।

'भारत में मुस्लिमों पर अत्याचार..', शरण लेने पाकिस्तान पहुंचे मोहम्मद हसनैन और इशाक अमीर

नशाखोरी को सियासी संरक्षण ! ड्रग्स मामले में गिरफ्तर हुए कांग्रेस विधायक सुखपाल सिंह खैरा

'न्याय इतना महंगा न हो कि आम आदमी से दूर हो जाए', नए कोर्ट भवन का शिलान्यास कर बोली राष्ट्रपति मुर्मू

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -