ये रेशमी जुल्फें ने लिखी मुमताज की बॉलीवुड में शान की कहानी
ये रेशमी जुल्फें ने लिखी मुमताज की बॉलीवुड में शान की कहानी
Share:

कुछ गाने बॉलीवुड के संगीत इतिहास के समृद्ध टेपेस्ट्री में महत्वपूर्ण मोड़ के रूप में खड़े हैं, न केवल उन धुनों के लिए बल्कि उनके भाग्य के लिए भी। मुमताज के करियर का पथ 1965 की फिल्म "मेरे सनम" के मंत्रमुग्ध करने वाले गीत "ये रेशमी ज़ुल्फ़िन" से काफी प्रभावित था। इस खूबसूरत गीत ने न केवल मुख्यधारा के बॉलीवुड दृश्य पर उनके प्रवेश का संकेत दिया, बल्कि इसने एक सहायक चरित्र से एक प्रमुख अभिनेत्री के रूप में उनके उदय का भी संकेत दिया। नए शीर्षक "ये रेशमी ज़ुल्फ़िन" के तहत गीत का एक दोहराव कुछ साल बाद, 1969 में क्लासिक फिल्म "औरत" में दिखाई दिया, जिसने मुमताज की प्रसिद्धि को मजबूत किया।

मुमताज 'ये रेशमी जुल्फीन' से पहले बॉलीवुड के बी-ग्रेड सर्किट में अपनी पहचान बना रही थीं, उन फिल्मों में छोटी भूमिकाएं निभा रही थीं, जो तुलनात्मक रूप से कम प्रसिद्ध थीं। लेकिन इस प्यारे गाने से उनके करियर को बढ़ावा मिला। अमर कुमार द्वारा निर्देशित रोमांटिक ड्रामा 'मेरे सनम' में मुमताज को नए तरीके से दर्शकों के सामने पेश किया गया था। मुमताज की करिश्माई ऑन-स्क्रीन उपस्थिति और गीत के मधुर आकर्षण ने एक छाप छोड़ी, जिसने पूरे देश में फिल्म प्रेमियों की रुचि को आकर्षित किया।

'ये रेशमी जुल्फीन' रोमांस और पुरानी यादों का एक नाजुक मिश्रण है और इसे एस. एच. बिहारी और प्रसिद्ध संगीत निर्देशक ओ. पी. नैय्यर ने लिखा है। करिश्माई मोहम्मद रफी द्वारा प्रस्तुत इस गीत को न केवल इसकी शांत धुन के कारण, बल्कि इसके क्लासिक गीतों के कारण भी प्रतिध्वनि मिली, जिसने कैस्केडिंग, रेशमी बालों की सुंदरता की प्रशंसा की। मुमताज की सुंदर और करिश्माई उपस्थिति ने गीत के पिक्चराइजेशन में आकर्षण की एक परत जोड़ दी, जिसने दर्शकों के दिलों को छू लिया।

मुमताज की किस्मत ने निर्णायक मोड़ ले लिया क्योंकि 'ये रेशमी जुल्फीन' की लोरी पूरे फिल्म सिनेमाघरों में गूंज रही थी। मुख्यधारा की बॉलीवुड प्रमुखता में उनका अंतिम उदय गीत की मदद से किया गया था। एक प्रमुख महिला के रूप में उनकी क्षमता ने उद्योग का ध्यान आकर्षित करना शुरू कर दिया था, और कुछ साल बाद उन्होंने "औरत" (1969) में अपनी सफलता की भूमिका निभाई, जिसने एक प्रमुख नायिका के रूप में उनकी स्थिति को मजबूत किया।

लोकप्रिय नायिका के पद पर मुमताज की पदोन्नति का संकेत 'औरत' से मिला, जिसने 'ये रेशमी जुल्फीन' के जादू को भी जीवंत कर दिया। तथ्य यह है कि फिल्म में लगभग समान गीतों के साथ एक गीत शामिल था और मुख्य गायक के रूप में मुमताज ने मूल गीत के प्रभाव के बारे में बहुत कुछ कहा। इस फिल्म ने न केवल उनके सफर को सम्मानित किया, बल्कि यह भी साबित कर दिया कि समय के साथ 'ये रेशमी जुल्फीन' कितनी लोकप्रिय रही है और मुमताज पर्दे पर कितनी लुभावना हैं।

गीत "ये रेशमी ज़ुल्फ़िन" इस बात का प्रमाण है कि संगीत में लोगों के जीवन को बदलने और उनके भविष्य को आकार देने की क्षमता है। अभिनेत्री मुमताज को जनता के ध्यान में लाने के अलावा, इस मनोरम राग ने उन अवसरों की एक श्रृंखला को भी गति दी, जिसने उन्हें बी-ग्रेड सिनेमा की गहराई से बॉलीवुड स्टारडम के शिखर तक पहुंचाया। मुमताज का निर्विवाद करिश्मा और गीत की स्थायी अपील पुरानी यादों को जगाती है और हिंदी फिल्म के इतिहास में एक क़ीमती अध्याय के रूप में काम करती है।

आवारा शहज़ादा(1933) से हुई थी डुप्लीकेट करैक्टर की शुरुआत

समीर अंजान का गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड

फिल्म जंगली से और कश्मीर की कली तक

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -